Chief Minister Manohar Lal Khattar

CM खट्टर की अहम घोषणा- निजी अस्पतालों के मेडिकल स्टॉफ को भी सरकारी तर्ज पर मिलेगा मुआवजा

चंडीगढ़ः हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अहम घोषणा करते हुए कहा है कि राज्य के निजी अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टरों, नर्स, पैरामेडिक्स और अन्य कर्मचारियों को भी सरकारी क्षेत्र में काम करने वालों की तर्ज पर मुआवजे का लाभ दिया जाएगा। खट्टर ने किसानों द्वारा लिए गए फसली ऋण की किश्त की तारीख 15 अप्रैल से 30 जून 2020 तक बढ़ाने की भी घोषणा की। हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें

उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिक्स और अन्य स्टाफ को भी क्रमश: 50 लाख रुपये, 30 लाख रुपये, 20 लाख रुपये और 10 लाख रुपये के मुआवजे का लाभ मिलेगा बशर्ते वे भारत सरकार द्वारा शुरु किए गए 50 लाख रुपये के नए बीमा कवर में नहीं आते हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के लाभार्थियों को पहले से ही 4000 रुपये की वित्तीय सहायता मिलनी शुरु हो गई है। इसी तरह, 3.50 लाख निर्माण क्षेत्र के श्रमिकों के बैंक खातों में 1000 रुपये प्रति सप्ताह की राशि हस्तांतरित कर दी गई है और कुल मिलाकर, अब तक 250 करोड़ रुपये ऐसे लाभार्थियों को हस्तांतरित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि इस महीने के लिए 1500 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है, जो लाभार्थियों को वित्तीय सहायता के रुप में खर्च किया जाना है।


इससे पहले गत 23 मार्च को, मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स के लिए, चाहे वे नियमित हों, तदर्थ, आउटसोर्स या अनुबंध पर कार्यरत हों और राज्य में कोविड परीक्षण प्रयोगशाला, कोरोना पॉजिटिव रोगियों को ले जाने वाली एम्बुलेंस या सरकारी अस्पतालों में स्थापित आइसोलेशन वार्ड में काम कर रहे कर्मियों के लिए मुआवजे की घोषणा की थी। उन्होंने निजी अस्पतालों से आग्रह करते हुए कहा कि वे कोरोना प्रभावित रोगियों को चिकित्सा देखभाल से मना न करें।