Hukamnama, हुक्मनामा श्री हरिमंदिर साहिब जी

हुक्मनामा श्री हरिमंदिर साहिब जी 21 जून

सूही महला ५ ॥ तउ मै आइआ सरनी आइआ ॥ भरोसै आइआ किरपा आइआ ॥ जिउ भावै तिउ राखहु सुआमी मारगु गुरहि पठाइआ ॥१॥ रहाउ ॥ महा दुतरु माइआ ॥ जैसे पवनु झुलाइआ ॥१॥ सुनि सुनि ही डराइआ ॥ कररो ध्रमराइआ ॥२॥ ग्रिह अंध कूपाइआ ॥ पावकु सगराइआ ॥३॥ गही ओट साधाइआ ॥ नानक हरि धिआइआ ॥ अब मै पूरा पाइआ ॥४॥३॥४६॥

हे प्रभु! में तेरी सरन आया हूँ, इस भरोसे से आया हूँ की तू किरपा करेगा। सो, हे मालिक प्रभु! जैसा तुझे अच्छा लगे, मेरी रक्षा कर। (मुझे तेर दर पर) गुरु ने भेजा है (मुझे तेर दर का) रास्ता गुरु ने (दिखाया है)।१।रहाउ।