ganga dussehra 2020

आज गंगा दशहरा पर करें इन चीजों का दान, होगी मोक्ष की प्राप्ति

हर साल ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा के नाम से मनाया जाता है। इस दिन सभी गंगा नदी का स्नान और पूजा करते हैं, और सभी पापों से मुक्ति प्राप्त करते हैं। धार्मिक मान्यता है कि गंगा नाम के स्मरण मात्र से व्यक्ति के पाप मिट जाते हैं। गंगा को देश में सबसे पव‍ित्र नदी का दर्जा द‍िया गया है और इसे मोक्षदाय‍िनी भी माना गया है।

माना जाता है कि इस द‍िन मां गंगा का धरती पर आगमन हुआ था। पुराणों और शास्त्रों में गंगा दशहरा का दिन महापुण्यकारी माना गया है। स्कंदपुराण में इस दिन स्नान व दान का विशेष महत्व बताया गया है। ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि के दिन मां गंगा पापों को नाश करके प्राणियों का उद्धार करने के लिए धरती पर अवतरित हुई थीं। आइए जानते हैं गंगा दशहरा पर किन चीजों का करें दान-

गंगा दशहरा पर करें इन चीजों का दान- 
गंगा दशहरा के दिन दान देना बहुत ही पुण्यदायी काम माना गया है। इसलिए शास्त्रों के अनुसार, सूर्यदेव को अर्घ्य देने के बाद दान अवश्य करना चाहिए। इस दिया गया दान से आप मोक्ष की प्राप्ति कर सकते हैं। आप गरीबों और जरूरतमंदों की भी मदद कर सकते हैं।

- गंगा दशहरा के दिन श्रद्धालु जन जिस भी वस्तु का दान करें उनकी संख्या दस होनी चाहिए और जिस वस्तु से भी पूजन करें, उनकी संख्या भी दस ही होनी चाहिए। 

-  गंगा पूजा में सभी वस्तुएं दस प्रकार की होनी चाहिए, जैसे- दस प्रकार के फूल, दस गंध, दस दीपक, दस प्रकार के नैवेद्य, दस पान के पत्ते, दस प्रकार के फल आदि, छाता, सूती वस्त्र, टोपी-अंगोछा, जूते-चप्पल आदि दान में देने चाहिए। 

- इस दिन किसी गरीब व्यक्ति को पानी से भरा हुआ घड़े का दान जरूर करना चाहिए। 

- इस दिन मौसमी फल को दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। 

- राहगीरों को पानी पीने की व्यावस्था करनी चाहिए। ऐसे करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। 

शिवालय में करें गंगा जलाभिषेक-
इस दिन शिवालय में गंगा जलाभिषेक के बाद अमृत मृत्युंजय का जाप करने के साथ अच्छे स्वास्थ्य और लम्बी आयु की प्रार्थना करना चाहिए. माना जाता है कि गंगा श्री विष्णु के चरणों में रहती थीं, भागीरथ की तपस्या से, शिव ने उन्हें अपनी जटाओं में धारण किया। फिर शिव जी ने अपनी जटाओं को सात धाराओं में विभाजित कर दिया। माना जाता है कि गंगा का जल पुण्य देता है और पापों का नाश करता है। 

घर पर ऐसे करें स्नान-
वैसे तो इस द‍िन श्रद्धालुओं को मां गंगा में जाकर डुबकी लगानी चाह‍िए और इनका वंदन करना चाह‍िए। लेकिन कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन में इस साल ऐसा संभव नहीं हो पाएगा  कोरोना वायरस के चलते अगर आप गंगा स्नान नहीं कर पा रहे हैं तो अपने घर में नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर सभी पवित्र नदियों को याद करके स्नान करें। फ‍िर सूर्य देव की अराधना करें। ऐसा करने से भी पवित्र गंगा में डुबकी लगाने जैसा ही फल मिलता है।