avdertisement
dispute

जीओजी और सरपंचों के बीच ग्रांटों को लेकर बड़ा विवाद, पुलिस तक पहुंची बात

फाजिल्का: सरकार द्वारा गांव की पंचायतों को दी जाने वाली ग्रांटों की देखरेख और पंचायतों द्वारा करवाए जाने वाले कार्यों की देखरेख संबंधी लगाए गए जीओजी और सरपंचों के बीच किसी मामले को लेकर आपसी विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों द्वारा एक दूसरे के खिलाफ थाने में कंप्लेंट दर्ज करवाई गई और दोनों पक्षों ने थाना सदर में इकट्ठे होकर एक दूसरे के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पुलिस प्रशासन पर दबाव डाला और जमकर नारेबाजी की गई।

इस मौके पर हुए पूर्व फौजी चंदर शेखर और मौजूदा जीओजी लखवीर सिंह ने बताया कि वह गांव ओझा वाली में अपनी ड्यूटी के दौरान चल रहे मनरेगा के कार्य की जांच करने पहुंचे थे जहां पर वहां के पूर्व सरपंच हरनेक सिंह और मनरेगा कर्मचारियों के द्वारा उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया और उनका मोबाइल छीन कर उनके साथ हाथापाई की गई और सरकारी कार्य करने में विघ्न डाला गया जिस पर उन्होंने अपने विभाग के तहसील हेड और जिला हेड को शिकायत दी और इस मामले के खिलाफ थाना सदर में कंप्लीट भी की है लेकिन पुलिस द्वारा अभी तक उन्हें आरोपियों पर कार्रवाई करने का आश्वासन ही दिया गया है किसी भी आरोपी पर कोई कार्यवाही नहीं की गई उन्होंने मांग करते हुए कहा कि उनके खिलाफ हुए हैं अत्याचार पर बनती कार्रवाई की जाए नहीं तो पूरे जिले की जि यो जी के सदस्यों द्वारा शांतिपूर्वक आंदोलन शुरू किया जाएगा।

वहीं इस मामले संबंधी गांव ओझा वाली के पूर्व सरपंच हरनेक सिंह और सरपंच यूनियन के अध्यक्ष बलजिंदर सिंह ने बताया कि उनके गांव पर लगाया गए जीओजी सदस्य लखबीर सिंह द्वारा नरेंद्र मनरेगा कर्मचारियों को बिना वजह तंग परेशान किया जाता है और उनसे पैसों की डिमांड की जाती है जिस पर उन्होंने उसे कई बार रोका कि वह गरीब जनता उन्हें रिश्वत नहीं दे सकती और इस मामले की शिकायत भी उन्के द्वारा जीओजी के तहसील हेड और जिला हेड को की गई जिसके बाद जीओजी विभाग द्वारा उसे वहां से बदल दिया गया लेकिन वह फिर भी गांव में चल रहे हैं मनरेगा कार्य कि वीडियोग्राफी करने लगा और मनरेगा कर्मचारियों के साथ बदतमीजी की गई जिस पर मनरेगा कर्मचारियों और उनके बीच आपसी विवाद हो गया और दोनों पक्षों में आपसी कहासुनी और हाथापाई भी हुई जिसके बाद कर्मचारियों व पंचायत सदस्यों द्वारा कार्रवाई करने के लिए थाना सदर में शिकायत दर्ज करवाई गई जिस पर अभी तक प्रशासन और पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही इस आरोपी जीओजी सदस्य पर कार्रवाई नहीं की गई तो वह पूरी सरपंच यूनियन को साथ लेकर अनिश्चितकाल समय के लिए धरना देंगे ।