Haryana News

हरियाणा में प्राइवेट स्कूलों के लिए फार्म-6 बनेगा गले की फांस

हरियाणा में लॉकडाउन के बीच मनमाने ढंग से फीस वसूलने वाले प्राइवेट स्कूलों के लिए फार्म-6 गले की फांस बनेगा। क्योंकि हर प्राइवेट स्कूल को 31 दिसंबर से पहले फार्म-6 भरकर शिक्षा विभाग को देना होता है। जिसमें स्कूल को अपना लेखा-जोखा सहित फीस बढ़ोतरी का ब्यौरा देना होता है।

चूंकि इस समय प्रदेश कोरोना महामारी के संकट से गुजर रहा है और इसे देखते हुए निदेशालय ने स्कूलों को केवल एक माह की ट्यूशन फीस ही लेने के निर्देश दिए हैं। बावजूद इसके अधिकतर प्राइवेट स्कूलों ने निदेशालय के निर्देशों का तोड़ निकालते हुए पूरे साल से जुड़े हर खर्चे को 12 माह में जोड़कर एक माह के हिसाब से ट्यूशन फीस वसूलना शुरू कर दिया है। मगर स्कूलों की इस चालाकी पर फार्म-6 नकेल कसने के लिए काफी है। अगर किसी भी ऐसे स्कूल के खिलाफ अभिभावक संबंधित रेंज के मंडलायुक्त को शिकायत करते हैं तो प्रदेश सरकार स्कूल की मान्यता रद्द करने के लिए सीबीएसई को पत्र भी लिख सकती है।