avdertisement
Madhya Pradesh number increased

मध्य प्रदेश में पांच और कोरोना के मरीज मिले, संख्या बढ़कर 19 तक पहुंची

भोपालः मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित पांच और मरीज मिलें हैं, जिसके चलते प्रदेश में इससे प्रभावितों की संख्या बढ़कर उन्नीस हो गई है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार इंदौर में कल देर रात्रि कोरोना के पांच संदिग्धों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिलने के बाद वहां प्रभावित की संख्या नौ हो गयी है। इसी तरह जबलपुर में छह, भोपाल दो और ग्वालियर तथा शिवपुरी में अब तक एक एक मरीज मिल चुकें हैं। वहीं उज्जैन निवासी कोरोना पीडित एक बुजुर्ग महिला ने कल इंदौर में इलाज के दौरान दमतोड़ दिया था। उसे कल ही कोरोना से संक्रमित पाया गया था। 

कोरोना को लेकर कल रात जारी बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में लगभग दो सौ संभावितों के सेम्पल जांच के लिए पुणो, नागपुर, भोपाल और जबलपुर भेज गए थे, जिसमें 15 की रिपोर्ट पॉजिटिव पायी गयी थी तथा 178 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इसके अलावा 36 की रिपोर्ट आनी शेष है तथा छह सेम्पल रिजेक्ट हो गए हैं। राज्य सर्विलेंस इकाई नए दिशा निर्देशों और परामर्श के लिए सेंट्रल सर्विलेंस इकाई नई दिल्ली से संपर्क में है। कोरोना वायरस की बीमारी की जानकारी एवं मार्गदर्शन के लिए प्रदेश स्तर काल सेंटर 104 स्थापित किया गया है।

प्रदेश के सभी 52 जिलों में मंगलवार की रात से लॉकडाउन कर दिया गया है, जो 14 अप्रैल तक जारी रहेगा। इसका अब सख्ती से पालन भी कराया जा रहा है। सभी जिलों में कफ्यरू जैसी स्थिति है, हालाकि आवश्यक सेवाओं और वस्तुओं की सप्लाई सुनिश्चित की जा रही है। नागरिकों से अनुरोध किया जा रहा है कि वे अनावश्यक रुप से घर से बाहर नहीं निकले। कल की तुलना में आज कम लोगों के बाहर निकलने की सूचना है। इसके अलावा राज्य में व्यवसाइयों, खासतौर से दवा विक्रेताओं और आवश्यक वस्तुओं के विक्रेताओं से अनुरोध किया गया है कि वस्तुओं का संग्रहण कालाबाजारी के उद्देश्य से नहीं करें और प्रशासन के दिशा निर्देशों के अनुरुप नागरिकों को सामान मुहैया कराएं। प्रदेश के लगभग सभी जिलों में खाद्य सामग्री एवं दवाओं की कालाबाजारी रोकने के मद्देनजर कार्रवाई कर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं।