Delhi Police

दिल्ली पुलिस की टीमें पहुंची तबलीगी मुख्यालय, कांधला में ड्रोन से तलाशे जा रहे संदिग्ध

नई दिल्ली/कांधलाः निजामुद्दीन मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय से मौलाना साद जब से गायब हुए, तब से यहां दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा टीमों की चहल-पहल बढ़ गई है। शनिवार और रविवार को भी दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीमें जमात हेड क्वार्टर में पहुंची। सूत्रों के मुताबिक, यह कसरत दिल्ली पुलिस इसलिए कर रही है ताकि, मौलाना साद जब तक क्वारंटाइन होम से निकल कर पुलिस के हाथ आएं, तब तक अपराध शाखा उनके खिलाफ तमाम सबूत जुटा ले। दूसरी ओर भले ही दिल्ली पुलिस ने अभी तक कांधला पुलिस से मदद न मांगी हो, मगर एहतियातन कांधला पुलिस इस मामले में ड्रोन निगरानी की मदद ले रही है। हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें

दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक खुद अपराध शाखा के डीसीपी ज्वाय टिर्की जमात मुख्यालय पहुंचे। साथ में कई एसीपी और इंस्पेक्टर भी मौजूद थे। कुछ घंटे रहकर पुलिस टीमों ने जमात मुख्यालय के चप्पे चप्पे को छाना। सूत्रों के मुताबिक मरकज के करीब सवा सौ साल के इतिहास में यह पहला मौका है, जब यहां इतनी बड़ी तादाद में एक साथ पुलिस वालों की इतनी बड़ी टीम के पांव पड़े हों। वरना यहां जमातियों के अलावा बाहरी परिंदे भी पर नहीं मार पाए थे। उल्लेखनीय है कि, जमात प्रमुख मौलाना मो. साद कांधलवी के खिलाफ दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने केस दर्ज किया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने कोरोना जैसी त्रासदी के दौरान भी अपने यहां देशी विदेशी मौलाना-मौलवियों की भीड़ इकट्ठी की। जमात मुख्यालय में पहुंचे तमाम लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से हजारों की संख्या में संक्रमित लोग देश के तमाम शहरों में फैल चुके हैं। 

केस दर्ज होने के बाद से ही मौलाना साद गायब हैं। मौलाना साद अपने बेटे मो. युसूफ साद और वकीलों के जरिए दिल्ली पुलिस के संपर्क में हैं। खुद अभी तक यह कहकर सामने नहीं आए हैं कि, वे एहतियातन क्वारंटाइन में हैं। अब पुलिस को इंतजार है मौलाना तक पहुंचने के लिए उनकी क्वारंटाइन अवधि के खत्म होने का।