ChinaNews

डब्ल्यूएचओ: आश्वस्त है कि न्यू कोरोनोवायरस प्रकृति से उत्पन्न विश्व को चीनी अनुभव से सीखना चाहिए

पहली मई को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जिनेवा में नये कोरोना वायरस निमोनिया पर न्यूज़ ब्रीफिंग आयोजित की। डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपात परियोजना के प्रमुख माइकल रायन ने कहा कि अभी तक अनेक वैज्ञानिकों ने न्यू कोरोना न्यूमोनिया वायरस के जीन अनुक्रम का अनुसंधान किया है। और उन का निष्कर्ष है कि नये कोरोना वायरस प्राकृतिक रूप से उत्पन्न हुआ है।
माइकल रायन ने कहा कि वर्तमान में यह महत्वपूर्ण है कि वायरस का मेजबान निर्धारित किया जाए और वायरस के मनुष्यों और जानवरों के बीच कैसे फैलाने की जानकारी प्राप्त करे। डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपात परियोजना की तकनीकी प्रमुख मारिया वान केरखोव ने कहा कि चीन ने महामारी की रोकथाम में भारी कोशिश की। विश्व को चीनी अनुभव सीखना जारी रखना चाहिये।
उधर विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम घेब्रेयिसस ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने समय पर सर्वोच्च चेतावनी जारी की थी। विश्व के पास इस बारे में प्रतिक्रिया करने के लिए काफी समय था। जब 30 जनवरी को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा "अंतरराष्ट्रीय चिंता की सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थिति" घोषित की गयी, तब चीन के बाहर दूसरे देशों में केवल 82 मामले दर्ज हुए। इस का मतलब है कि विश्व के पास महामारी की रोकथाम के लिए पर्याप्त समय था।
डब्ल्यूएचओ के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार अभी तक सारी दुनिया में नये कोरोना वायरस निमोनिया से संक्रमित मामलों की संख्या 31 लाख 81 हजार तक जा पहुची है। मृतकों की संख्या भी 2.2 लाख 4 हजार 301 तक रही। 
(साभार-चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)