China

चीन की नागरिक संहिता ने जनता की इच्छा प्रतिबिंबित की

नये चीन की पहली नागरिक संहिता 28 मई को नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के तीसरे सत्र में मतदान से पारित हुई ,जो 1 जनवरी 2021 को लागू होगी ।चीनी कानून विशेषज्ञों के विचार में इस नागरिक संहिता ने जनता की इच्छा प्रतिबिंबित की है ।उस की स्पष्ट युगांतर और चीनी विशेषताएं होती हैं ,जो नये युग में सुधार ,खुलेपन और समाजवादी आधुनिक निर्माण के लिए अधिक संपूर्ण नागरिक कानून की गारंटी प्रदान करेगी । नागरिक संहिता के कुल 7 अध्याय और 1260 धाराएं हैं ।इन में व्यक्तित्व अधिकार के बारे में एक स्वतंत्र अध्याय है ,जो इस संहिता की एक बड़ी ध्यानाकर्षक बिंदु है ।एनपीसी संविधान और कानून समिति के सदस्य सुन श्येनचुंग ने नागरिक संहिता बनाने में भाग लिया ।उन्होंने बताया कि इस संहिता में व्यक्तित्व के सम्मान और शारीरिक मुक्ति की सुरक्षा को मजबूत बनाने पर जोर दिया गया ,जिस से व्यक्ति की मानसिक मांग और अधिकार की मांग को एक नयी ऊँचाई पर पहुंचाया गया है ।
 
चीनी सर्वोच्च जन न्यायालय के उप प्रमुख ली श्योपिंग के विचार में व्यक्तित्व अधिकार के बारे में एक स्वतंत्र अध्याय बनाने से जाहिर है कि चीनी नागरिक संहिता का प्रस्थान बिंदु जन अधिकार की सुरक्षा है ।उन्होंने कहा कि पहले व्यक्तित्व अधिकार नागरिक सिद्धांत में शामिल था ।इस बार उस के लिए एक स्वतंत्र अध्याय बनाया गया ,जिस में शारीरिक अधिकार ,मान अधिकार के ठोस निर्धारित किये गये है ।इस ने व्यापक लोगों के कानूनी हितों की सुरक्षा के लिए कानूनी हथियार और क्रियाओं का मापदंड प्रदान किया है । सुन श्येनचुंग के विचार में नागरिक संहिता कानूनी तरीके से राष्ट्रीय प्रशासन व्यवस्था और प्रशासन क्षमता का आधुनिकीकरण बढ़ाने के लिए बड़ा महत्व रखती है ।उन्होंने कहा कि इस संहिता में एक बड़ी विशेषता है कि इस का कार्यांवयन सिविल सबजेक्ट(subject)की काररवाइयों पर निर्भर है ।

उन्होंने कहा कि आम लोग इस कानून को कैसे लागू करें ।हमारी नागरिक संहिता में बारीक निर्धारण होते हैं ,जो आम लोगों के लिए मार्गदर्शक और सुरक्षा की भूमिका निभाते हैं ।उन की काररवाई को कानून से मेल खाना है और कानून के मुताबिक सिविल गतिविधि करनी है । सुन श्येनचुंग के विचार में नागरिक संहिता से न सिर्फ आम लोगों को सिविल मामले में कानून मिला ,बल्कि प्रशासनिक संस्था और वैधिक संस्था के कार्य को भी बड़ी मदद मिलेगी ।उन्होंने कहा ,दूसरी तरफ प्रशासनिक संस्था और वैधिक संस्था को नागरिक मामलों का प्रबंधन करने के लिए सिविल संहिता की जरूरत है ।अगर कई कानून व्यवस्थित नहीं है ,यहां तक कि कुछ कानूनों के बीच अंतरविरोध मौजूद है ,तो कानून का पालन करना मुश्कित है । सुन श्येनचुंग ने बल दिया कि चीनी सिविल संहिता की स्पष्ट युगांतर विशेषता है ,जो आधुनिक समाज की विशेषताएं प्रतिबिंबित करती है ।उन्होंने कहा ,परंपरागत समाज में लोगों की मुख्य संपत्ति वास्तविक संपत्ति है ।वर्तमान समाज में वास्तविक संपत्ति के अलावा बहुत क्रेडिट संपत्ति ,अमूर्त संपत्ति और साइबर संपत्ति भी है ।यह इस नागरिक संहिता बनाने की सामाजिक पृष्ठभूमि है ।कहा जा सकता है कि यह नागरिक संहिता क्रेडिट आर्थिक युग और साइबर आर्थिक युग में एक नागरिक संहिता है ,जो चीनी सिविल कानून के आधुनिकीकरण का एक उल्लेखनीय प्रतीक है ।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)