Haryana

भूपेंद्र सिंह हुड्डा बोले, भाजपा का गौरक्षा का नारा और दावा झूठा

चंडीगढ़: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सिरसा जिले की गौशालाओं में गत लगभग सवा साल में 10,772 गायों की मौतों को लेकर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) पर निशाना साधते हुये कहा कि उसका एकमात्र जोर गाय के नाम पर वोट बटोरने पर रहता है उनकी हालत सुधारने पर नहीं। 

हुड्डा ने यहां जारी एक बयान में कहा कि गौशाला और सड़कों पर हरोज गौवंश की मौत हो रही है। उन्होंने बताया उनकी आरटीआई के जरिए जानकारी मिली है कि सिरसा जिले की गौशालाओं में महज सवा साल के भीतर 10,772 गौवंश की मौत हो चुकी है। अप्रैल 2017 से जुलाई 2018 के बीच 16 महीने के दौरान हर महीने औसतन 673 गौवंश ने दम तोड़ा। राज्य सरकार ने इन हजारों मौतों की दर्दनाक घटना को प्रदेश की जनता से छिपाए रखा। लेकिन आरटीआई से हुए खुलासे ने भाजपा के गौरक्षा वाले नारे और दावे की पोल खोल दी है।

उन्होंने कहा कि जब से हरियाणा में भाजपा सरकार आई है गौवंश की हालत लोगों से छिपी नहीं है। गौशालाओं के रखरखाव और खानपान के अभाव में गायों की मौत की खबरें आती रहती हैं। सड़कों पर भी बेसहारा गौवंश हादसों का शिकार या हादसों की वजह बनता रहता है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सिर्फ गाय के नाम वोट मांगती है। लेकिन उसकी दयनीय हालत देखकर आंख बंद कर लेती है। उन्होंने मनसा देवी चारा घोटाले का जिक्र करते हुये कहा कि गत दिनों गौ सेवा आयोग के तहत पंचकूला की मनसा देवी गौशाला में चारा घोटाले की शिकायत सामने आई थी। उस पर आज तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है। 

कांग्रेस नेता ने आशंका जताई कि गौमाता के लिए दान में मिलने वाली राशि भी गौशाला में खर्च करने के बजाए घोटाले की भेंट चढ़ रही है। इसलिए जरुरी है कि सिरसा में हुई हजारों मौतों के साथ गौ सेवा आयोग की तमाम राशि और खर्च की जांच होनी चाहिए। साथ ही तमाम सरकारी गौशालाओं की व्यवस्थाओं और रखरखाव की भी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए ताकि और मौतों को रोका जा सके। उन्होंने भाजपा को नसीहत दी कि उसे बेजुबानों के नाम पर राजनीति करने के बजाए उनके प्रति संवेदनशील होना चाहिए। सिरसा के साथ पूरे हरियाणा में हर गौशाला से सम्पर्क कर उनकी हालत सुधारनी चाहिए। अलग-अलग संस्थाओं की तरफ से चलाई जा रही गौशालाओं को भी उचित सरकारी मदद देनी चाहिए। साथ ही सड़कों पर घूम रहे बेसहारा गौवंश को भी गौशाला में भेजना चाहिए।