bhai dooj 2020

आज भाई दूज के इस शुभ मुहूर्त पर करें ऐसे पूजा-विधि और पढ़ें कथा...

कल पूरे देश में होली का पर्व बड़े धूम-धाम से मनाया गया। होली के दूसरे 11 मार्च यानि कि आज सभी भाई दूज का पर्व मनाया जा रहा है। इसी दिन भगवान चित्रगुप्त जी की पूजा भी की जाती है। जानें भाई दूज पूजा एवं चित्रगुप्त पूजा विधि व महत्व। बता दें, हिंदू धर्म शास्त्र की मान्यता के अनुसार भाई दूज वाले दिन बहनें अपने भाई की प्रगति, कुशलता और लंबी आयु की कामना से ईश्वर से करते हुए भाई का विधिवत पूजन करती है।

भाई दूज की कथा-
पौराणिक धार्मिक कथानुसार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की द्वतीया तिथि के दिन ही मृत्यु के देवता यमराज से उनकी बहन देवी यमुना ने एक वरदान मांगा था। देवी यमुना ने यमराज से कहा कि आज के दिन जो भी भाई पवित्र नदी में स्नान करने के बाद अपनी बहन के घर भोजन करेगा, उस भाई को कभी भी मृत्यु का भय न रहे। यमराज जी ने प्रसन्न होकर अपनी यमुना द्वारा मांगे वरदान को फलीभूत होने का आशीर्वाद दिया था, तभी भाई दूज पर्व मनाने की परंपरा शुरू हुई।

शुभ मुहूर्त एवं पूजा विधि-
11 मार्च दिन बुधवार को भाई दूज पूजन के लिए सबसे उत्तम मुहूर्त सूर्योदय से लेकर शाम 3 बजकर 30 मिनट तक रहेगा। उक्त शुभ मुहूर्त में विधिवत पूजा की थाल में चावल, चंदन, कुमकुम, हल्दी, लाल कलावा, एक दीपक, मिठाई, सफेद रूमाल आदि रखकर, पूजन करें, माथे पर तिलक लगावें, सीधे हाथ की कलाई पर रक्षा कवच के रूप में लाल कलावा बांधे और आरती उतारें। पूजन के बाद से सदैव रक्षा का संकल्प लेकर उन्हें मिठाई खिलावें।