Amitabh Bachchan

उत्तर प्रदेश के प्रवासियों के लिए अमिताभ बच्चन ने 10 बसों की व्यवस्था की

मुंबई : बॉलीवुड के मेगा-स्टार अमिताभ बच्चन ने उत्तर प्रदेश  प्रवासियों के लिए दस बसों की व्यवस्था कर शुक्रवार अपराह्न इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इन बसों में मुम्बई से  लखनऊ के  लिए एक बस, इलाहाबाद के  लिए पांच और गोरखपुर और भदोई के लिए दो-दो  बसें  भेजी गयी, जहाँ से प्रवासी अपने-अपने गाँव के लिए रवाना होंगे।   श्री बच्चन ने आज अपराह्न बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। महिलाओं और 43 बच्चों सहित लगभग 225 उत्साहित प्रवासियों को लेकर 10 बसों के बेड़े को उत्तर प्रदेश के विभिन्न गंतव्यों के लिए रवाना किया गया।बसों को हरी झंडी  दिखाने के समय एबीसीएल के प्रबंध निदेशक राजेश यादव, सुहैल खंडवानी, माहिम दरगाह ट्रस्ट के प्रबंध ट्रस्टी और हाजी अली दरगाह ट्रस्ट के ट्रस्टी ने भाग लिया। 

‘‘साबिर सईद, माहिम दरगाह के आईटी-निदेशक ने यहां मीडिया कर्मियों को बताया ‘‘यह बच्चन-साहब के दिमाग की उपज थी, जो लॉकडाउन के बाद से प्रवासियों के कष्टों से गहरा संबंध रखते हैं। उन्होंने  हाजी अली दरगाह और माहिम दरगाह  के  सामने श्री  बच्चन ने एक प्रस्ताव रखा जिस पर दरगाह ने व्यवस्था की। दो सप्ताह से अधिक समय तक श्री बच्चन विभिन्न स्थानों पर सैकड़ों प्रवासियों को भोजन करा रहे थे और उन्हें दवाइयाँ भी प्रदान कर रहे थे। इसके अलावा एक परेशानी-मुक्त यात्र सुनिश्चित करने के लिए, प्रत्येक यात्री को पूरी यात्र के लिए मास्क, सैनिटाइज़र, दस्ताने, पानी की बोतलें और खाने के पैकेट दिए गए हैं, प्रत्येक बस में आवश्यक दवाओं के साथ अपने स्वयं के पूर्ण आपातकालीन चिकित्सा किट हैं, फलों के रस, ग्लूकोज, आदि भी दिया गया है। प्रवासियों को अपने गृहनगर भेजते हुए सामाजिक दूरी के मानदंडों का कड़ाई से पालन किया गया।  प्रत्येक 52 यात्रियों वाली  बस में  लगभग 25 यात्री बैठें हैं, और बड़ी बसों में 30 यात्री बैठे हैं। सभी धर्मों के निवासी हाजी अली दरगाह में प्रार्थना करने  के बाद बस माहिम दरगाह पर संबंधित गंतव्यों के लिए रवाना होने से पहले अंतिम सम्मान देने के लिए थोड़ी देर के लिए रुकी और उसके बाद बस  रवाना हुयी।