Xi Jinping , video talks

शीचिनफिंग और पुतिन ने वीडियो वार्ता की

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 28 जून को दोपहर बाद पेइचिंग में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिरपुतिन के साथ वीडियो वार्ता की। दोनों नेताओं ने संयुक्त बयान जारी कर औपचारिक तौर पर“चीन-रूस अच्छे पड़ोसियों जैसे मैत्रीपूर्ण सहयोग संधि”को आगे बढ़ाने की घोषणा की। पुतिन ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी स्थापना की 100वीं वर्षगांठ को बधाई दी। शी चिनफिंग ने वार्ता में कहा कि“चीन-रूस अच्छे पड़ोसियों जैसे मैत्रीपूर्ण सहयोग संधि”पर हस्ताक्षर किये हुए 20 साल होने वाले हैं। इस समझौते में स्थापित पीढ़ी दर पीढ़ी मैत्रीपूर्ण अवधारणा दोनों देशों के मूल हितों से मेल खाता है, शांति और विकास वाले युग के मुख्य विषय के अनुकूल है और साथ ही साथ नए अंतरराष्ट्रीय संबंध और मानव जाति के साझे भाग्य समुदाय की स्थापना का जीवंत अभ्यास भी है। वर्तमान में चीन-रूस संबंध परिपक्व, स्थिर, और मजबूत है, जो किसी भी अंतरराष्ट्रीय उतार-चढ़ाव की परीक्षा का सामना करने सक्षम है। 

शी चिनफिंग ने यह भी कहा कि चीन-रूस वास्तविक सहयोग फलदायी है, जिसकी गुणवत्ता और मात्रा साथ ही साथ बढ़ रही हैं। अंतरराष्ट्रीय मामलों में दोनों देश घनिष्ठ रूप से समन्वय और सहयोग करते हुए सच्चे बहुपक्षवाद और अंतरराष्ट्रीय निष्पक्षता व न्याय की रक्षा करते हैं। वैश्विक उथल-पुथल स्थिति और मानव जाति के विकास में कई चुनौतियां मौजूद होने की परिस्थिति में चीन और रूस के बीच घनिष्ठ सहयोग अंतरराष्ट्रीय समुदाय में सक्रिय ऊर्जा संचार करेगा और नए अंतरराष्ट्रीय संबंधों में आदर्श मिसाल स्थापित करेगा। वहीं, राष्ट्रपति पुतिन ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना की 100वीं वर्षगांठ की बधाई दी और कहा कि रूस इतिहास में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के बीच आवाजाही को मूल्यवान समझता है और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ मिलकर पार्टियों के बीच आदान-प्रदान को मजबूत करना चाहता है। कामना है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में चीनी आर्थिक सामाजिक विकास में लगातार नई उपलब्धियां प्राप्त होंगी और चीन अंतरराष्ट्रीय मामलों में और महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

पुतिन ने आगे कहा कि “चीन-रूस अच्छे पड़ोसियों जैसे मैत्रीपूर्ण सहयोग संधि” से दोनों देशों की जनता की पीढ़ी दर पीढ़ी वाली इच्छा जाहिर हुई। इस संधि में स्थापित प्रासंगिक सिद्धांतों और भावना ने रूस-चीन संबंधों के दीर्घकालिक बेरोकटोक विकास में महत्वपूर्ण और अनूठी भूमिका निभाई है। वर्तमान में रूस-चीन संबंध अभूतपूर्व उच्च स्तर तक पहुंच गया और द्विपक्षीय सहयोग व्यापक तौर पर स्थिर रूप से विकास हो रहा है, इसके प्रति रूस संतुष्ट है और चीन के साथ मिलकर लगातार रणनीतिक आपसी विश्वास को गहराना, सामरिक सहयोग को घनिष्ठ करना चाहता है। इसके साथ ही अपने-अपने देश की संप्रभूता और प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने के लिए एक दूसरे की चेष्टा का निरंतर दृढ़ समर्थन करता है, अपने-अपने द्वारा चुनी गई व्यवस्था और विकास रास्ते का सम्मान करता है। रूस चीन के साथ मिलकर द्विपक्षीय वास्तविक सहयोग, मानविकी आदान-प्रदान और अंतरराष्ट्रीय मामलों में समन्वय व सहयोग को मजबूत चाहता है, और नए युग में रूस-चीन व्यापक रणनीतिक साझेदारी संबंध को और ऊंचे स्तर पर पहुंचाना चाहता है।

वार्ता में दोनों नेताओं ने बल देते हुए कहा कि चीन और रूस संयुक्त राष्ट्र के कोर वाली अंतरराष्ट्रीय प्रणाली और अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित अंतरराष्ट्रीय स्थिति की समान रूप से दृढ़ता के साथ रक्षा करेंगे, वैश्विक रणनीतिक सुरक्षा और स्थिरता की रक्षा करेंगे, सच्चे बहुपक्षवाद का समर्थन करते हुए इसका अभ्यास करेंगे। “लोकतंत्र” और ”मानवाधिकार”की आड़ में दूसरे देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप का विरोध करते हैं, और एकतरफा जबरन प्रतिबंध लगाने का विरोध करते हैं। चीनी और रूसी शीर्ष नेताओं ने इस पर सहमति जताई कि घनिष्ठ उच्च स्तरीय आवाजाही को बनाए रखा जाए, टीका सहयोग को मजबूत किया जाए, द्विपक्षीय व्यापारिक पैमाना का लगातार विस्तार किया जाए, कम कार्बन ऊर्जा, डिजिटल अर्थतंत्र, कृषि आदि क्षेत्रों में सहयोग का विकास किया जाए, “बेल्ट एंड रोड”पहल और यूरोशिया आर्थिक गठबंधन के जोड़ को आगे बढ़ाया जाए। दोनों पक्ष संयुक्त रूप से खेलों के राजनीतिकरण का विरोध करेंगे और रूस पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक की सफल मेजबानी का समर्थन करता है। 

( साभार- चाइनामीडियाग्रुप, पेइचिंग )

Live TV

-->

Loading ...