Independence Day

India में हर साल 15 अगस्त को ही क्यों मनाया जाता हैं Independence Day, जानें

नई दिल्लीः इस साल हम 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। इस दिन हर भारतीय उत्साह से भरा हुआ नजर आता है और पूरा देश देशभक्ति की भावना में सराबोर रहता है। हम भारतीयों के लिए ये दिन खास है क्योंकि इसी दिन भारत को आजादी मिली थी इसलिए इस दिन को आजादी का दिन भी कहा जाता है। भारत में पहला स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 1947 को मनाया गया था, तब से आज तक मनाया जाता आ रहा है पर क्या आपको पता है की स्वतंत्रता दिवस क्या है, स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता है। नहीं पता है तो आईये जानते है की स्वतंत्रता दिवस क्या है और स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते हैं? 

स्वतंत्रता दिवस भारत में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में 15 अगस्त को मनाया जाता हैं। यह दिन ब्रिटीशों के पंजे से आजादी प्राप्त करने के लिए हमारे स्वतंत्रता सेनानियों और भारत के लोगों के बहादुर होने का प्रतीक है और ये दिन ब्रिटिश शासन से भारत की आजादी को दर्शाता है और सभी लोगों को एकजुट कर देश की शक्ति को भी प्रदर्शित करता हैं। इसी दिन यानि 15 अगस्त 1947 को भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र बना इसलिए इस दिन को याद रखने के लिए प्रति वर्ष एक राजपत्रित छुट्टी आयोजित की जाती है लेकिन कुछ लोगों के लिए यह सिर्फ एक सार्वजनिक अवकाश है क्योंकि उन्हें पता नहीं होता की स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता हैं।

स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते हैं

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 1947 में ब्रिटिश शासन से भारत की आजादी की याद में मनाया जाता है। 15 अगस्त को एक नए स्वतंत्र भारत का जन्म हुआ। इस दिन अंग्रेजों ने भारत छोड़ा और देश को नेताओं को सौंपा था इसलिए ये भारत के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण दिन है और भारतीय इस दिन को हर साल बड़ी धूमधाम से मिलकर मनाते हैं। इस दिन भारत को लंबे वर्षों के बाद ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता मिली। 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश साम्राज्य से स्वतंत्र रूप से देश की स्वतंत्रता मनाने के लिए इस दिन को पूरे भारत में राष्ट्रीय और राजपत्रित अवकाश के रूप में घोषित किया गया। भारत के लिए अंग्रेजों से स्वतंत्रता प्राप्त करना इतना आसान नहीं था लेकिन भारत के कुछ महान लोगों ने और स्वतंत्रता सेनानियों ने इसे सच कर दिखाया। 

उन्होंने अपनी पीढ़ियों की चिंता के बजाय पूरे भारत परिवार की चिंता की और स्वतंत्रता प्राप्त करने में अपनी जान तक त्याग दी। उन्होंने पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए हिंसक और अहिंसक प्रतिरोध सहित विभिन्न स्वतंत्रता आंदोलनों पर योजना बनाई और उन पर काम किया। इस दिन सभी राष्ट्रीय, राज्यों और स्थानीय सरकार के कार्यालय, बैंक, डाकघर, स्टोर, बाजार, व्ययसाय और संगठन आदि बंद रहते है हालाँकि सार्वजनिक परिवहन चालू रहते हैं। यह भारत की राजधानी में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है साथ ही यह सार्वजनिक समुदाय और समाज सहित छात्रों और शिक्षकों द्वारा सभी स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षिक संस्थानों में भी मनाया जाता हैं।



Live TV

-->

Loading ...