Uttar Pradesh Instructions to issue rate list to all private Kovid hospitals

उत्तर प्रदेश : जिले के सभी निजी कोविड अस्पतालों को 13 मई तक रेट लिस्ट जारी करने के मिले निर्देश

वाराणसी : उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में कोरोना के कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है और इसी की आड़ में मरीजों से कुछ मुनाफाखोरों और कालाबाज़ारी करने वाले काफी फल-फूल रहे हैं। इस दौर में प्रदेश के निजी अस्पताल भी पीछे नहीं हैं। अब प्रदेश के मुख्यमंत्री जोगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद प्रशासन ने निजी अस्पतालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। इसी तरह जिलाधिकारी की ओर से सभी मान्यता प्राप्त निजी कोविड अस्पतालों को नोटिस जारी किया गया है कि 13 मई तक शासनादेश के क्रम में कोविड इलाज के रेट सार्वजनिक करें। साथ ही इसकी एक फोटो कॉपी मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराएं। यह निर्देश राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम- 2005 अंतर्गत जिला आपदा समिति के निर्णय के अनुसार तथा महामारी अधिनियम -1897 की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत जारी किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसका उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

बता दें कि जिलाधिकारी की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि मरीजों के परिजनों, मीडिया व जनप्रतिनिधियों से यह लगातार सूचना मिल रहे हैं कि प्राइवेट अस्पतालों की ओर से शासनादेश का जमकर उल्लंघन किया जा रहा है। जिला अधिकारी न बताया की प्रतिदिन कोरोना के मरीज कम हो रहे हैं इसलिए सरकारी अस्पतालों में बेड भी रिक्त होने लगे हैं। ऐसे में आवश्यक है कि निजी अस्पताल सामान्य आक्सीजन, आई.सी.यू. तथा वेंटीलेटरयुक्त आई.सी.यू. 3 प्रकार की श्रेणी में विभाजित करते हुए अपनी सामान्य दरें सार्वजनिक करें। इस संबंध में यह भी स्पष्ट किया जाता है कि रेट में कंसलटेंट, बेड खर्च, सामान्य दवाईयों का खर्च, आक्सीजन तथा अस्पताल की मूलभूत सुविधाएं जैसे पी.पी.ई. किट या सामान्य डिस्पोजल आदि का व्यय शामिल रहेगा। विशेष दवाईयां, विशेष मशीन या बाहर से बुलाए गए कंसलटेंट का रेट इस व्यय में शामिल नहीं होगा। 

Live TV

Breaking News


Loading ...