international news online, breaking news international, america

अमेरिकी सीनेटर ने बैसाखी और गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती पर सिखों को दी बधाई

वाशिंगटनः अमेरिका के एक वरिष्ठ सीनेटर ने सिखों की सामुदायिक, पारिवारिक और नि:स्वार्थ सेवा की सराहना करते हुए दुनिया भर में इस समुदाय के लोगों को ‘बैसाखी’ और गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती पर शुभकामनाएं दीं। पेन्सिल्वेनिया से सीनेटर पैट टूमी ने बुधवार को सीनेट में कहा, ‘‘मैं बैसाखी के उल्लासपूर्ण समारोहों और गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती के लिए सिख समुदाय को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करता हूं।’ टूमी ने कहा कि सिख संप्रदाय की जड़ें भारत के पंजाब में हैं और यह करीब 600 साल में पूरी दुनिया में फला-फूला है। उन्होंने कहा कि सिख परंपरा शांति, सम्मान और समानता के सिद्धांतों पर आधारित है।

उन्होंने कहा कि सिख इस सिद्धांत का भी पालन करते हैं कि ईश्वर के सामने सभी समान हैं चाहे किसी भी जाति, लिंग, धर्म या वर्ण से हों।टूमी ने कहा कि आज दुनिया में सिखों की आबादी करीब तीन करोड़ है और यह दुनिया के सबसे बड़े धर्मों में शामिल है। अमेरिका में करीब सात लाख सिख रहते हैं और इनमें से अधिकतर पेन्सिल्वेनिया में रहते हैं।उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान पेन्सिल्वेनिया समेत देश भर में सिख संप्रदाय के लोगों ने हजारों जरूरतमंद परिवारों को भोजन, किराने का सामान, मास्क और अन्य जरूरी सामग्री की आपूर्ति की।

टूमी ने कहा, ‘‘अमेरिकी सिख कांग्रेसनल कॉकस के सम्मानित सदस्य के नाते मैं हर साल अमेरिका में 13 अप्रैल को बैसाखी के पर्व में शामिल होता हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बैसाखी के अलावा सिख 18 अप्रैल को गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती मनाएंगे। सिखों के नौवें गुरु तेग बहादुर जी को सभी के लिए धार्मिक स्वतंत्रता के पैरोकार के रूप में याद किया जाता है।

Live TV

-->

Loading ...