UP forest Uttar Pradesh yogi adityanath

UP के वनावरण में 127 वर्ग किलोमीटर का हुआ इजाफा, चारों तरफ बढ़ी हरियाली

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में हरियाली का दायरा (ग्रीन कवर ) बढ़ा है। बीते चार वर्षों से प्रदेश सरकार द्वारा लगातार कराए गए रिकॉर्ड पौधरोपण से सूबे के वनावरण और वृक्षावरण दोनों में वृद्धि हुई है। फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया की रिपोर्ट 2019 के अनुसार, उत्तर प्रदेश में 2017 की तुलना में वनावरण में 127 किलोमीटर की वृद्धि हुई है। जंगल के अलावा भी कई वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में पेड़-पौधों की बढ़ोतरी हुई है।

रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश का वृक्षावरण राष्ट्रीय औसत 2.89 फीसद की तुलना में 3.05 फीसद हो गया है। राज्य में हरियाली के बढ़े दायरे का श्रेय सूबे के वनाधिकारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल को दे रहे हैं। इसके चलते ही वर्ष 2017 से लेकर वर्ष 2020 तक विभिन्न प्रजातियों के 65.94 करोड़ पौधे लगाए गए। और अब 30 करोड़ पौधे लगाए जा रहे हैं। इस तरह इस साल मिशन 30 करोड़ के इन पौधों की संख्या को जोड़ दें तो यह संख्या सौ करोड़ के करीब होगी। ऐसे प्रयासों के चलते ही सूबे में हरियाली का दायरा बढ़ा है।

पर्यावरण विशेषज्ञ संजय कुमार के अनुसार, ‘‘अब उत्तर प्रदेश में कुल वनावरण 14,806 वर्ग किमी. (6.15 प्रतिशत) हो गया है। बीते चार सालों से प्रदेशभर में कराए जा रहे पौधारोपण के चलते वन क्षेत्रों में 25 प्रतिशत हरियाली बढ़ी है। यही नहीं, पर्यावरण के साथ भूमि संरक्षण, जलस्तर व मृदा आदि में भी काफी सुधार हुआ है। पर्यावरण विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि प्रदेशभर में पौधारोपण से वन क्षेत्रों में जंगली पशु पक्षी की संख्या बढ़ी है। जंगलों के वीरान होने के चलते तेजी से गायब हो रहे पशु-पक्षी हरियाली लौटने पर दोबारा लौटने लगे हैं। इसमें भालू, मोर, लकड़हारा समेत अन्य पशु पक्षी शामिल हैं।