Tourism is affected in Himachal Pradesh

दोबारा कोरोना फैलने से हिमाचल प्रदेश में पर्यटन प्रभावित होने का अंदेशा

शिमला (हिमाचल प्रदेश) : कोरोना संक्रमण के तेजी से पांव पसारने का असर हिमाचल में पर्यटन उद्योग पर पड़ने का अंदेशा है। पर्यटन गतिविधियों के प्रभावित होने के अंदेशे से सरकार चिंतित है। हालांकि सरकार ने कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के मद्देनजर सरकार ने शिक्षण संस्थानों को बंद करने का फैसला लिया है, मगर पटरी पर लौट रही आर्थिक गतिविधियों के मद्देनजर फिलहाल और अधिक बंदिशें लगाने की योजना नहीं है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का कहना है कि कोरोना के मामलों के अधिक बढ़ने की स्थिति में सरकार और अधिक बंदिशें लगाने बारे सोच सकती है। 

उल्लेखनीय है कि पड़ोसी राज्य पंजाब में कोरोना की दूसरी वेव है। पंजाब से हिमाचल आने वाले सैलानियों की संख्या इन दिनों काफी है। पंजाब के अलावा दिल्ली में भी कोरोना संक्रमण तेज हुआ है। प्रदेश का ऊना जिला के साथ साथ बद्दी बरोटीवाला तथा नूरपुर पंजाब के करीब है। ऊना जिला में ही इन दिनों कोरोना के अधिक मामले आ रहे हैं। बीते साल कोरोना संक्रमण की वजह से प्रदेश में सैलानियों की आमद करीब 81 फीसदी प्रभावित हुई। सैलानियों की आमद घटने का असर सर्विस टैक्स पर पड़ा। इसके अलावा पर्यटन विकास निगम तथा परिवहन सेक्टर को भी भारी नुक्सान हुआ। होटल इंडस्ट्री को करोड़ों का नुकसान प्रदेश में हुआ।

हालांकि प्रदेश सरकार ने बीते साल जुलाई से राज्य में सैलानियों की आमद को छूट दे दी थी परन्तु बाद में हिमाचल में बहुत कम संख्या में सैलानी पहुंचे। अनलॉक के बाद अब वीकेंड पर सैलानी प्रदेश की सैरगाहों पर पहुंच रहे हैं। मगर अब कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। करीब 20 दिनों में प्रदेश में 1800
के करीब कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। लिहाजा सरकार भी चिंतित है।

Live TV

-->

Loading ...