heavy rain

मूसलाधार बारिश और भारी ओलावृष्टि से किसानों की नींद उड़ी

तहसील बनी के अधिकतर इलाकों में मूसलाधार बारिश और भारी ओलावृष्टि ने किसानों की नींद उड़ा दी है जबकि जो फसल मक्की, राजमास की लगाई गई थी और उसके साथ-साथ सब्जियों और बागवानी को भी भारी नुक्सान पहुंचा है इतना ही नहीं मूसलाधार बारिश और भारी ओलावृष्टि के चलते जिन इलाकों में मक्की राजमार्ग की फसल नहीं लगाई गई थी उन्हें अभी 15 दिन और इंतजार करना पड़ सकता है। 

बुधवार दोपहर के समय अचानक मौसम ने करवट ली और बनी सहित चांदल, लोहांग, भंडार, रोलका, कोटी चंडियार, डुगन, डगर, बाड़ी, संदरून, बांजल आदि इलाकों में भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि शुरू हो गई जबकि ओलावृष्टि लगभग आधे घंटे होती रही जिससे इलाके की सब्जियों, बागवानी और मक्की राजमास की लगाई गई फसल को भारी नुक्सान पहुंचा है। किसानों का कहना है कि बुधवार को हुई भारी बारिश और ओलावृष्टि के होने के चलते जिन इलाकों में अभी तक मक्की राजमास की फसल नहीं लगाई गई है उन्हें लगभग 15 दिनों तक और इंतजार करना पड़ सकता है। 

उन्होंने बताया कि ओलावृष्टि से बागवानी की फसल फलदार वृक्षों पर आ रहे फूलों को भी भारी नुक्सान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि किसान हर वर्ष मौसम के बदलते मिजाज और कुदरत के कहर का सामना कर रहे हैं। किसानों ने कृषि और बागवानी विभाग के उच्च अधिकारियों से मांग की है कि वह आज हुई भारी बारिश और ओलावृष्टि से हुए नु्क्सान का सर्वे करवाएं ताकि किसानों को मुआवजे के तौर पर कुछ सहायता मिल सके।

Live TV

Breaking News


Loading ...