Lord Hanuman Ji

आज भौम अमावस्या पर इस तरह करें हनुमानजी की पूजा, भय से मिलेगी मुक्ति

आज 11 मई को भौम अमावस्या है। अमावस्या का अर्थ होता है जिस दिन चन्द्र का क्षय और उदय नहीं होता। माना जाता है अमावस्या के दिन सूर्य और चन्द्र का मिलान होता है यानि के इस दिन यह दोनों एक ही राशि में रहते है। लेकिन अगर यह मंगलवार के दिन आए तो और भी अधिक शुभ हो जाती है। क्युकी मंगलवार का दिन भगवान हनुमान जी का होता है। मंगलवार होने के कारण इसे भौम अमावस्या या भौमवती अमावस्या भी कहते हैं। और इस दिन भगवान हनुमान जी की पूजा अर्चना का महत्त्व और भी अधिक बढ़ जाता है। तो आइए जानते है कैसे करे इस दिन भगवान हनुमान जी की पूजा :

1. अमावस्या के दिन विशेष रूप से हनुमानजी की पूजा या उनका पाठ करने से व्यक्ति नकारात्मक विचार और शक्तियों से बच जाता है। इसके लिए हनुमान चालीसा पढ़ें, बजरंग बाण बढ़ें या सुंदरकाण्ड पढ़ें। हनुमानजी की मूर्ति या तस्वीर के सामने दीपक जलाएं और साफ आसन पर बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। आप चाहें तो श्रीराम दूताय नम: मंत्र का जाप भी कर सकते हैं।

2. मंगल दोष से मुक्ति के लिए इस दिन हनुमान जी को सिंदूर का चोला चढ़ाएं, गुड़ और चने का प्रसाद बांटें, चमेली के तेल और सिंदूर से अभिषेक करें। हनुमान मंत्र का जाप करें।

3. हनुमानजी को पान का बीड़ा अर्पित करें और अपनी मनोकामना उन्हें बताएं। भय से मुक्ति हेतु इस दिन निरंत हनुमानजी के 12 नामों का जप करते रहें।

भौमवती अमावस्या के दिन तांबे का त्रिकोण मंगल यंत्र घर में स्थापित करके नित्य इसकी पूजा कर मंगल स्तोत्र का पाठ करें। यंत्र पर लाल चंदन का तिलक करें। इससे आपको धनलाभ प्राप्त होगा। भौमवती अमावस्या के दिन श्रीयंत्र की विधिवत पूजा करें और श्रीसूक्त का पाठ करें। यह उपाय करने से भी आपकी आर्थिक संकट दूर होगा और आपको धन लाभ मिलेगा।

Live TV

Breaking News


Loading ...