Human rights teacher

"मानवाधिकार शिक्षक" का मुकाबला करने के लिए उसके तरीके से निपटारा करना है

चीनी विदेश मंत्रालय ने हाल में घोषणा की कि चीन देश की प्रभुसत्ता और हितों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाने और झूठ या गलत सूचनाएं फैलाने वाले यूरोपीय पक्ष के 10 कर्मचारियों और 4 इकाइयों के खिलाफ प्रतिबंध लगाएगा। यह "मानवाधिकार शिक्षक" का मुकाबला करने के लिए उसके तरीके से निपटारा करने की आवश्यक कार्रवाई है, जिससे चीन द्वारा देश की प्रभुसत्ता, सुरक्षा और विकास हितों की रक्षा करने का दृढ़ संकल्प और इरादा प्रतिबिंबित है।

इस बार चीन की नामसूची में बार-बार चीन के अंदरुनी मामलों में हस्तक्षेप करने वाले संगठनों और शिनच्यांग मामले पर बुरा प्रदर्शन करने वाले निजी व्यक्ति शामिल हैं। उनकी कार्रवाइयों ने चीनी जनता के नाम और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है, चीन की प्रभुसत्ता और सुरक्षा हित का उल्लंघन किया है।  लोगों ने ध्यान दिया कि यूरोपीय संघ द्वारा तथाकथित शिनच्यांग के मानवाधिकार सवाल को लेकर चीन के खिलाफ पाबंदी लगाने के बाद अमेरिका और ब्रिटेन ने भी बराबर कदम उठाए हैं। उन्होंने मानवाधिकार का झंडा उठाकर सहयोग कर चीन को बदनाम करने और चीन के विकास को रोकने की पूरी कोशिश की है। लेकिन उनका राजनीतिक प्रदर्शन सभी लोगों को धोखा नहीं दे सकता। फ्रांसिसी लेखक मेक्सिमे विवास ने अपनी पुस्तक उईगुर झूठी खबर का अंत लिखी, शिनच्यांग की यात्रा करने वाले कई देशों के 

अधिकारियों और पत्रकारों ने चीन के समर्थन में आवाज़ उठायी। हाल में 80 से अधिक देशों के प्रतिनिधियों ने यूएन मानवाधिकार परिषद की बैठक में चीन की शिनच्यांग प्रशासन नीति का समर्थन किया। चीन के शिनच्यांग में लोगों को स्थिरता, सुरक्षा, विकास और प्रगति का उपभोग करते हैं। शिनच्यांग की विकास कहानी चीन की सबसे सफल मानवाधिकार कहानियों में से एक बन चुकी है। हम अमेरिका जैसे पश्चिमी देशों से आग्रह करते हैं कि वे खुद के मानवाधिकार मामले को अच्छी तरह हल करें, झूठे दोहरे मापदंड न अपनाएं, दूसरे देश के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप न करें, ताकि गलत रास्ते में आगे दूर न चले जाएं।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)


Live TV

-->

Loading ...