Taurus year

वृषभ वर्ष का वसंत त्योहार चीनियों के लिए समान समृद्धि का नया प्रस्थान बिंदु

दक्षिण पश्चिमी चीन के सछ्वान प्रांत के ल्यांगशान प्रिफेक्चर के अथूल्यएर गांव के लोगों ने हाल ही में धूमधाम से चीनी परंपरागत नववर्ष मनाया। त्योहार के रात्रिभोज में सुअर का मांस, चिकन, तोफू और तरह-तरह के स्वादिष्ट व्यंजन उपलब्ध थे। उनके लिए वृषभ वर्ष का वसंत त्योहार उनके गरीबी के चंगुल से निकलने के बाद पहला वसंत त्योहार है। जोरशोर से खुशियां मनाने के पीछे उनके जीवन में आयी कायापलट है।

ल्यांगशान प्रिफेक्चर चीन के गरीबी उन्मूलन के मुख्य युद्ध मैदानों में एक था। पिछले पाँच वर्षों में इस प्रिफेक्चर ने स्थानांतरण से 3 लाख 53 हजार 200 लोगों को गरीबी से छुटकारा दिलाया है। वर्ष 2020 में अथूल्यएर गांव के लोग बड़े पहाड़ों पर स्थित पुराने गृहस्थल से स्थानांतरित होकर पहाड़ के तलहटी में सरकार द्वारा निर्मित नये मकानों में रहने लगे, जहां नलजल और प्राकृतिक गैस उपलब्ध है।

अथूल्याएर गांव का स्थानांतरण चीन में अति गरीबी दूर करने का एक लघुचित्र है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा था कि समाजवाद जनता को सुखमय जीवन दिलाता है। इस दौरान एक भी व्यक्ति को पीछे नहीं रहने दिया जाएगा।

वर्ष 2020 के अंत तक चीन के अंतिम खेप की 52 गरीब काउंटियों के 1113 गांवों को गरीबी से मुक्ति मिली। इस तरह 8 साल के प्रयासों के तहत चीन की लगभग दस करोड़ गरीब आबादी को गरीबी से मुक्ति मिली। चीन ने वैश्विक गरीबी उन्मूलन के लिए महत्वपूर्ण योगदान भी दिया।

उल्लेखनीय बात है कि क्रय-शक्ति समता यानी पीपीपी के मुताबिक चीन की गरीबी रेखा विश्व बैंक की अंतरराष्ट्रीय गरीबी रेखा से थोड़ी ऊंची है। इसके अलावा चीन के गरीबी उन्मूलन का मापदंड वास्तव में चतुर्मुखी है यानी प्रति व्यक्ति आय स्थिरता के साथ राष्ट्रीय गरीबी रेखा के ऊपर बनी रहती है, खाने व कपड़े की कोई समस्या नहीं है और अनिवार्य शिक्षा, बुनियादी चिकित्सा सेवा और मकान की सुरक्षा की गारंटी मिलती है।

चीन की 14वीं पंचवर्षीय योजना के मसौदे के मुताबिक गरीबी उन्मूलन पूरा करने के बाद चीन भावी पाँच साल में समान समृद्धि को आगे बढ़ाएगा। गरीबी से मुक्ति मिलना अंत नहीं है, बल्कि समान समृद्धि अभियान का नया प्रस्थान बिंदु है। (साभार----चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)   
 



Live TV

-->

Loading ...