Tibetan nations

हान और तिब्बती जीतीयों के सांस्कृतिक विकास का मूल

चीन एक एकीकृत बहु-जातीय देश है। प्रमुख जाति हान के अलावा, तिब्बती, मंगोलियाई, उइगर और मैन भी महत्वपूर्ण जातीय समूह हैं। यांग्त्ज़ी नदी और पीली नदी ने चीन में दो प्रमुख सभ्यताओं को जन्म दिया यानि कि पीली नदी सभ्यता और यांग्त्ज़ी नदी सभ्यता। यह प्राचीन काल से हान, तिब्बती और अन्य जातीय समूहों के बीच एक सामान्य संपर्क क्षेत्र भी माना जाता है। हान और तिब्बती के बीच एक प्राचीन जातीय समूह झियांग जाति भी है। कुछ विद्वानों का मानना है कि झियांग जाति हान और तिब्बती जातियों के आम पूर्वज से संबंधित है।

प्राचीन काल के चीनी क्लासिक्स ग्रंथों के मुताबिक झियांग जाति के यिन और शांग राजवंशों के साथ घनिष्ठ संबंध मौजूत रह चुके थे। प्राचीन झियांग जाति का तिब्बतियों के साथ भी संबंध था। तिब्बती और चीनी ऐतिहासिक सामग्रियों के तुलनात्मक अध्ययनों के आधार पर कुछ तिब्बती विद्वानों ने इस बात की पुष्टि की है कि "तिब्बत" और "झियांग" एक ही जाति के विभिन्न ऐतिहासिक काल के अलग-अलग नाम हैं। उन्होंने यह भी निष्कर्ष निकाला कि लगभग दो हजार साल पहले ही चीन के शया राजवंश में तिब्बती और हान जातीय समूहों के बीच घनिष्ठ संपर्क शुरू हो गया था। उधर चीनी तिब्बतोलॉजी रिसर्च सेंटर के एक शोधकर्ता लूंग शी च्यांग का मानना है कि "तिब्बती और हान लोगों की जड़ें समान हैं" यह निष्कर्ष, चीनी इतिहास में लगे विद्वानों द्वारा तिब्बती और चीनी ग्रंथों के सामग्रियों पर किये गये अनुसंधान से आधारित है। और अब उन्हें बायोजेनेटिक्स का प्रमाण भी प्राप्त हो गया है।

वर्तमान में चीन में लगभग तीन लाख झियांग जातीय लोग हैं, जो मुख्य रूप से सिचुआन प्रांत के आबा तिब्बती और झियांग स्वायत्त प्रिफेक्चर में रहते हैं। चीन के बहुत से प्राचीन ग्रंथों में प्राचीन काल में झियांग और हान जातीय लोगों के पूर्वजों के बीच संबंधों को स्पष्ट किया जाता है। आधुनिक तिब्बतियों और प्राचीन झियांग जीतीय लोगों के बीच संबंधों के बारे में, भाषा के परिवर्तन और बोली के अंतर जैसी स्थितियों के कारण से लोग नहीं समझते थे कि "झियांग" प्राचीन तिब्बतियों का नाम ही है। और इससे तिब्बतियों की उत्पत्ति पर विभिन्न कहानियां प्रस्तुत की गई हैं। लेकिन तिब्बती और चीनी ऐतिहासिक सामग्रियों से यह साबित है कि तिब्बती और हान जातीय समूह रक्त और संस्कृति में एक-दूसरे से निकटता से संबंधित हैं।

तुबो में बौद्ध धर्म का प्रवेश होने के बाद बौद्ध धर्म के माध्यम से हान और तिब्बती जातियों के बीच एक हजार तीन सौ से अधिक सालों के लिए सांस्कृतिक आदान-प्रदान और मिश्रण चलाये गये। इस अवधि के दौरान, तिब्बत में पहला बौद्ध मंदिर सैम्य मठ बनाया गया था। हान-तिब्बती बौद्ध संस्कृति के आदान-प्रदान, आपसी सीखने और विकास से चीन के सांस्कृतिक विकास पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा था। राजनीतिक क्षेत्र में जातीय एकीकरण को बढ़ाने से चीनी राष्ट्र के निर्माण और चीनी भौगोलिक सीमाओं के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गयी है। दूसरी ओर आर्थिक रूप से, बड़ी संख्या में तिब्बती भिक्षुओं ने श्रद्धांजलि करने और धर्म सिखाने के लिए अंतर्देशीय इलाकों में प्रवेश किया। केंद्रीय सत्ता के शासकों के उपहार और विश्वासियों द्वारा किये गये योगदान के तिब्बत में प्रवाहित हुआ, जिसने दोनों स्थानों के बीच सामग्रियों के प्रसार को बढ़ावा दिया। तिब्बती विद्वान बानबान दोजी का मानना है कि प्राचीन काल में तिब्बती क्षेत्रों में स्थानीय धर्म लोकप्रिय था, जो बौद्ध धर्म के प्रवेश का मुकाबला नहीं कर सकता था।
तिब्बती इतिहास ग्रंथों के अनुसार जब तुबो के प्रथम राजा सोंगत्सेन गैंबो के पिता नंगरी सोंत्सेन जीवित थे, तब हान जातीय क्षेत्रों में से कैलेंडर, अटकल और चिकित्सा जानकारियों का तुबो में प्रवेश किया गया था। राजकुमारी वेनचेंग का तिब्बत में प्रवेश करने के साथ साथ तिब्बत तक न केवल हान जातीय क्षेत्र के बौद्ध धर्म को तिब्बती पठार में लाया गया, बल्कि हान क्षेत्र से तिब्बत में चिकित्सा पद्धति और चाय पीने का रिवाज भी पारित किया गया। आज की तिब्बती चिकित्सा पद्धति प्राचीन तिब्बती चिकित्सा के ज्ञान को विरासत में देने और हान जातीय चिकित्सा की उपलब्धियों की एक बड़ी मात्रा को अवशोषित करने के आधार पर विकसित की गई है। वह चीनी पारंपरिक चिकित्सा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। चीनी राष्ट्र का मूल और एकता की वास्तविकता को समझने के लिए हान और तिब्बती जातीयों के सांस्कृतिक विकास के स्रोत का अध्ययन करना बहुत सार्थक है।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

Live TV

-->

Loading ...