toll collection

अप्रैल-मई में नरमी के बाद टोल कलेक्शन में आया उछाल

भारत के राजमार्ग टोल कलेक्शन में इस साल अप्रैल-मई सीजन में नरमी के बाद फिर से उछाल आने की उम्मीद है। टोल कलेक्शन 2क्यूएफवाई22 में 4क्यूएफवाई21 राजस्व तक पहुंचने की उम्मीद है और एफवाई20 की तीसरी लहर से 3क्यूएफवाई22 की शुरूआत में 15 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने एक शोध रिपोर्ट में कहा, ये उम्मीदें जून 2021 में रिकवरी से प्रेरित हैं, जो पहले 2क्यूएफवाई21 में पहली लहर के दौरान देखी गई थी। अप्रैल और मई 2021 में, दूसरी कोविड लहर के दौरान स्थानीयकृत लॉकडाउन के कारण 4क्यूएफवाई21 की तुलना में औसत टोल राजस्व में 10 प्रतिशत और 34 प्रतिशत की गिरावट आई।

हालांकि, जून 2021 में टोल कलेक्शन में ऊपर की ओर वृद्धि देखी गई, जो जून 2021 के अंतिम सप्ताह में 4क्यूएफवाई21 के स्तर के 90 प्रतिशत तक पहुंच गई। इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के कई हिस्सों में अप्रैल-जून 2021 के दौरान पूर्ण या आंशिक लॉकडाउन के लागू होने से लोगों की आवाजाही प्रभावित हुई है, जिससे टोल कलेक्शन प्रभावित हुआ है।

‘‘10 राज्यों में फैली 36 टोल परियोजनाओं पर इंडिया-रिसर्च का नमूना अध्ययन इंगित करता है कि साप्ताहिक आधार पर औसत रोजानाटोल कलेक्शन मई 2021 के तीसरे सप्ताह में 38 प्रतिशत के शिखर पर पहुंच गया, जो अप्रैल के पिछले सप्ताह में 17 प्रतिशत की गिरावट के बाद था।’’ इंडिया-रिसर्च को कोविड के मामलों में गिरावट और टोल कलेक्शन 2क्यूएफवाई22 के बाद रैंप-अप के साथ लॉकडाउन उपायों में धीरे-धीरे छूट की उम्मीद है।

इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2021 में एक मजबूत ट्रैफिक रिकवरी देखी गई, जिससे चरम कोविड-19 लॉकडाउन अवधि के दौरान ट्रैफिक के नुकसान को कम किया गया। ‘‘यह निजी परिवहन को तेजी से अपनाने और टोल राजस्व को स्थिरता प्रदान करने वाले एक तेज वाणिज्यिक यातायात वसूली के नेतृत्व में था।’’ ‘‘वाणिज्यिक यातायात में एक त्वरित सुधार देखा गया, आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही को देखते हुए और ई-वे बिल उत्पादन और ईंधन की खपत प्रक्षेपवक्र के अनुरूप था, जबकि कोविड -19 प्रसार सार्वजनिक परिवहन (बसों) की वसूली को प्रभावित करता रहा।’’


Live TV

Breaking News


Loading ...