WHO

डब्ल्यूएचओ के विद्वानों की बातों से पश्चिम के कुछ लोग निराश हो सकते हैं

विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञ दल 3 फ़रवरी को वुहान वायरस अनुसंधान प्रतिष्ठान में चार घंटे ठहरा। उन्होंने वुहान वायरस प्रयोगशाला का दौरा भी किया। रूसी मीडिया स्पुतनिक द्वारा 4 फ़रवरी को जारी खबर के अनुसार डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञ दल के सदस्य, रूसी सेंट पीटर्सबर्ग के पाश्चर अनुसंधान प्रतिष्ठान के उपाध्यक्ष, महामारी विज्ञान के पीएचडी व्लादिमीर डेडकोव ने इस यात्रा के बाद वुहान प्रयोगशाला से वायरस के फैलाव के कथन पर सवाल उठाया। 

उन्होंने कहा कि वुहान प्रयोगशाला में उपकरण बहुत अच्छे हैं। मैं मुश्किल से कल्पना कर सकता हूं कि यहां से कुछ लीक हो सकता है? मैंने इस प्रयोगशाला का दौरा किया, और साथियों के साथ इस प्रयोगशाला के प्रबंध पर चर्चा भी की। सभी सुव्यवस्थित रूप से चल रहे हैं। मैं नहीं जानता कि कौन उनकी आलोचना कर रहे हैं?

विशेषज्ञ दल के और एक सदस्य पीटर दास्ज़क ने भी यह कहा है कि मैं इस प्रयोगशाला से बहुत परिचित हूं। यहां वैज्ञानिक अनुसंधान की बहुत श्रेष्ठ उपलब्धियां प्राप्त हैं। शायद इस प्रयोगशाला में किया गया अनुसंधान वायरस के फैलाव की वास्तविकता से बहुत नजदीक है, इसलिये कुछ लोगों ने इसकी आलोचना की और बदनाम भी किया। यह एक बहुत विडंबनापूर्ण बात है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वनबिन ने 3 फ़रवरी को आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में परिचय देते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ दल ने चीन के साथ कारगर रूप से विचार-विमर्श किया। उन्होंने अस्पताल, बाजार, रोग नियंत्रण केंद्र आदि जगहों का दौरा किया। संबंधित काम सुचारु रूप से जारी हैं।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)


Live TV

-->

Loading ...