So far, vaccines are useful for prevention of delta variants and for protecting people: Experts

अब तक डेल्टा वेरिएंट की रोकथाम व लोगों की रक्षा के लिये वैक्सीन उपयोगी हैं : विशेषज्ञ


 
हाल ही में आयातित होने से क्षेत्रीयप्रकोपऔरक्लस्टरिंगसंक्रमण के कारण चीन के अधिक प्रांत प्रभावित हुए हैं। कोरोनाकाडेल्टाप्लसवैरिएंट दुनिया भर में सबसे प्रचलितवैरिएंट बना हुआ है। डेल्टा वैरिएंट से चीन के च्यांगसू प्रांत के नानचिंग शहर में महामारी का प्रकोप फैला है। 31 जुलाई को चीन की राज्यपरिषदकीसंयुक्तरोकथामऔरनियंत्रणतंत्र ने संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया। इसमें चीनीराष्ट्रीयस्वास्थ्यआयोग के प्रवक्ता मी फ़ोंग ने कहा कि इस जुलाई में पूरे चीन में नएपुष्टमामलों की कुल संख्या 328 पहुंच गई है, जो पिछले 5 महीनों के योग केकरीब है। अब 14 प्रांतों ने नये स्थानीय पुष्ट मरीजों और स्पर्शोन्मुखहोने वाली संक्रमित रोगियों की रिपोर्ट जारी की। इस संवाददाता सम्मेलन में चीनकी सीडीसी के शोधकर्ता फ़ेंग ज़ेच्यान ने कहा कि हाल ही में विभिन्न देशों और डब्ल्यूएचओ ने डेल्टा वैरिएंट की विशेषताओं के अनुसंधान को मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार अन्य वैरिएंटों की तुलना में डेल्टा वैरिएंट की संचरणदरलगभगदोगुना है। विशेषज्ञों ने कहा, मौजूदा अनुसंधानऔरअवलोकन के अनुसार काफी संभव है कि महामारी-विरोधी वैक्सीन डेल्टा बैरिएंड की रोकथाम क्षमता में गिरावट हुई। लेकिन अब तक डेल्टा वैरिएंट की रोकथाम और लोगों की रक्षा करने के लिये ये वैक्सीन उपयोगी हैं। चीन की राज्य परिषद की संयुक्त रोकथाम और नियंत्रणतंत्र के टीकों के अनुसंधान और विकास समूह के विशेषज्ञ शाओ यीमिंग ने कहा कि टीका लगाने के बाद संक्रमित मरीज निर्णायकमामले के नाम पर जाना जाता है। मौजूदा विश्व स्थिति के अनुसार ये निर्णायक मामले अपवाद के बजाय सामान्य बात हैं लेकिन उन्होंने अपील की कि दुनिया भर में महामारी-विरोधी वैक्सीन की 3 अरब खुराकदी जा चुकी हैं। इनमें निर्णायकमामलों का अनुपात बहुत छोटा है। विशेषज्ञों ने अपील की कि महामारी के पुनः प्रकोप से उपयोगी रूप से बचने के लिये अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को टीकाकरण और महामारी की रोकथाम व नियंत्रण केसख्तउपाय उठाना दोनों बातों पर ध्यान देना चाहिये।
(साभार- चाइनामीडियाग्रुप, पेइचिंग)
 

Live TV

-->

Loading ...