SC to hear Khushi Dubey's

SC में Kanpur Bikru केस मामले में खुशी दुबे की जमानत अर्जी पर सुनवाई, UP सरकार को Notice

लखनऊ : बिकरू शूटआउट केस में मारे गए अमर दुबे की पत्नी ख़ुशी दुबे की जमानत अर्जी पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान अदालत ने इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया है। बिकरू कांड मामले में खुशी दुबे को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उस वक्त खुशी नाबालिग थी, जबकि एक साल से वह जेल में हैं। इस मामले में इलाहबाद हाईकोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी। 

खुशी दुबे की तरफ से वकील विवेक तन्खा पेश हुए। इस दौरान उन्होंने अदालत में बताया कि बिकरू कांड के कुछ दिन पहले ही उसकी शादी हुई थी, उस वक्त उसकी उम्र लगभग 17 थी और उसकी शादी को महज 7 दिन हुए थे। अदालत में वकील ने बताया कि उसके पिता उसे घर ले जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने उसे नारी निकेतन भेज दिया। उन्होंने बताया कि उसका बिकरू कांड से कुछ लेना-देना नहीं है। उन्होंने बताया कि इस घटना के 4 महीने बाद ही सरकार ने उस पर अन्य मुकदमे भी लगा दिए। 

इस दौरान वकील विवेक तन्खा ने अदालत में कहा कि पुलिस ने उस पर पति अमर दुबे को उकसाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। इस पर अदालत ने प्रदेश सरकार को नोटिस जारी करते हुए कहा कि उसके परिवार और पति को गिरफ्तार किया जाना चाहिए था, क्योंकि एक नाबालिग की शादी नहीं हो सकती। ज्ञात हो कि कानपुर के बिकरू गांव में  2 जुलाई, 2020 को गैंगस्टर विकास दुबे ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर 8 पुलिस कर्मियों को मार दिया था, जिसमें अमर दुबे भी शामिल था। इसके बाद एस.टी.एफ. ने अलग-अलग एनकाउंटर में विकास दुबे, अमर दुबे और अन्य 3 को मार गिराया था। 

Live TV

Breaking News


Loading ...