Rising prices , vegetables

‘क्या खाएं-क्या पकाएं’ सब्जियों के बढ़ते दामों ने बिगाड़ा रसोई का जायका

शिमला : सब्जियों के दामों ने रसोई का जायका बिगाड़ दिया है। राजधानी शिमला में आम जनता के बजट से सब्जियां बाहर होती जा रही हैं। मैदानी इलाकों से सब्जियों की आमद बेहद कम होने के कारण लोअर बाजार, सब्जी मंडी सहित शहर के उपनगरों में फल और सब्जियों के दामों में पिछले महीने की अपेक्षा 20 से 30 फीसदी का उछाल आया है। सब्जी मंडी में मटर, फ्रांसबीन, फू लगोभी के भाव सबसे अधिक बढ़ गए हैं। सब्जियों के लगातार बढ़ते दामों ने जहां गृहणियों का पूरा बजट खराब कर दिया है, वहीं दुकानदारों के पास भी ग्राहकों की आधी सं या रह गई है। ग्राहक दुकान में फल-सब्जियों के भाव पूछने के बाद खरीदारी में संकोच कर रहे हैं।

कृष्णा फ्रूट एंड वैजिटेबल एसोसिएशन शिमला के अध्यक्ष सतपाल शर्मा ने बताया कि सब्जी मंडी में अन्य राज्यों से आने वाली सब्जियों की आमद बेहद कम हो गई है। मैदानी इलाकों में बारिश के कारण सब्जियां खराब होने के चलते सप्लाई प्रभावित हुई है। इसलिए सारा दारोमदार स्थानीय सब्जियों पर ही टिका है। स्थानीय सब्जियों की सप्लाई अन्य राज्यों में होने के कारण शिमला में कम मात्र में सब्जियां उपलब्ध हो पा रही हैं। इसकी वजह से सब्जियां महंगी हो गई है। आगामी दिनों में सब्जियों के दाम और बढ़ने की आशंका है। बरसात सीजन के चलते सब्जियों की आपूर्ति और अधिक प्रभावित हो जाती है। वहीं सब्जी मंडी में सब्जी खरीदने आए लोगों ने कहा कि गरीब आदमी का जीना दिन प्रतिदिन मुश्किल होता जा रहा है। पुराने समय में सब्जी न हो तो लोग एक चपाती पर प्याज रखकर रोटी खा लेते थे, लेकिन मौजूदा समय में प्याज भी खरीदना मुश्किल हो गया है।

Live TV

-->

Loading ...