Jagannath Temple, Ahmedabad, Chief Minister Vijay Rupani, Amit Shah

अहमदाबादः ‘कोरोना कर्फ्यू’ के बीच एक तिहाई समय में ही पूरी हुई रथ यात्रा

अहमदाबादः अहमदाबाद के ऐतिहासिक भगवान जगन्नाथ मंदिर की सालाना रथ यात्रा को इस बार कोरोना महामारी के चलते सरकारी आदेश पर आज कर्फ्यू के बीच निकाला गया। यह रथ यात्रा इस बार मात्र लगभग 4 घंटे यानी एक तिहाई समय में ही पूरी हो गई, जबकि सामान्य वर्षों में इसमें 12 से 14 घंटे का समय लगता है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हर साल की तरह इस बार भी सुबह 4 बजे सपरिवार मंगला आरती में भाग लिया। इसके बाद करीब 7 बजे रथों की रवानगी से पहले पहले मंदिर में सोने की झाड़ू लगाने की पहिंद विधि मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने की। पूरी यात्रा कोरोना प्रोटकाल के अनुरुप आयोजित हुई। 

करीब 14 किमी लंबे रथ यात्रा मार्ग पर पुलिस और अर्धसैनिक बलों की व्यापक व्यवस्था और तैनाती थी । 15 ड्रोन कैमरे और सीसीटीवी के जरिए भी निगरानी की जा रही थी। रथ यात्रा करीब 4 घंटे में ही अपराह्न 11 बजे निज मंदिर वापस लौट आई। इस दौरान कही कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। ज्ञातव्य है कि राज्य सरकार ने इस बार कई शर्तों के साथ निकालने की मंजूरी दी थी। 

इससे पूर्व हर साल की तरह कौमी एकता की शानदार मिसाल पेश करते हुए कल स्थानीय मुस्लिम समुदाय के नेताओं ने मंदिर के महंत को चांदी से बना रथ का मॉडल सौंपा था। रथयात्रा में भगवान जगन्नाथ, बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के 3 रथनुमा वाहन और मंदिर महंत का वाहन समेत केवल 5 वाहनों ने ही भाग लिया। 

Image

इस दौरान ट्रकों, भजन मंडलियों, अखाड़ाओं, हाथी आदि को भाग लेने की अनुमति नहीं थी। रथ को खींचने वाले खलासियों के लिए पूर्ण में कम से कम टीके की एक डोज और अधिकतम 48 घंटे पुराना नेगेटिव कोरोना आरटी पीसीआर रिपोर्ट लाना अनिवार्य था। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को टालने के लिए इस बार यात्रा गिने चुने लोगों की मौजूदगी में संपन्न हुई।

Live TV

-->

Loading ...