Himachal Pradesh, CM Virbhadra Singh, President ramnath Kovind, amit shah

हिमाचल प्रदेश के पूर्व CM वीरभद्र सिंह का निधन, राष्ट्रपति कोविंद सहित कई नेताओं ने जताया शोक

नयी दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनका राजनीतिक जीवन लोगों की सेवा करने की उनकी प्रतिबद्धता से चिह्नित है। 87 वर्षीय सिंह का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार तड़के शिमला में निधन हो गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट करके कहा, "यह जानकर दुख हुआ कि वीरभद्र सिंह नहीं रहे। मुख्यमंत्री और सांसद के रूप में छह दशक तक उनकी भूमिकाओं में हिमाचल प्रदेश की सेवा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता झलकती है। मेरा उनके समर्थकों और परिवार के साथ संवेदनाएं हैं।"


अमित शाह ने भी जताया शोक 
गृह मंत्री अमित शाह ने भी वीरभद्र सिंह के निधन पर शोक जताया है। अमित शाह ने ट्वीट कर लिखा कि 'वीरभद्र सिंह के निधन का दुखद समाचार मिला, ईश्‍वर दिवंगत आत्‍मा को शांति प्रदान करे। उनके परिवार के सदस्‍यों व समर्थकों के प्रति संवेदना व्‍यकत की।'

जयराम ठाकुर ने किया ट्वीट 
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वीरभद्र सिंह के निधन पर शोक जताया। जयराम ठाकुर ने ट्वीट कर कहा, ‘‘देवभूमि हिमाचल के छह बार मुख्यमंत्री रहे वरिष्ठ नेता आदरणीय वीरभद्र सिंह जी के निधन का समाचार हम सबके लिए बेहद दुःख देने वाला है। हिमाचल के लिए यह एक अपूर्णीय क्षति है, जिसकी भरपाई कभी नहीं होगी। हिमाचल के विकास में उनका योगदान अनुकरणीय है, जिसे कभी भुलाया नहीं जाएगा।’’ हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह के सम्मान में बृहस्पतिवार को राज्य में तीन दिवसीय शोक की घोषणा की। आधिकारिक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि आठ से लेकर 10 जुलाई के बीच किसी आधिकारिक मनोरंजन कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा।

वीरभद्र सिंह का राजनीति सफर
बता दें कि वह छह बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हिमाचल की राजनीति में उनका कद कितना बड़ा था। वीरभद्र सिंह नौ बार विधायक रहे थे। इसके साथ ही वह पांच बार सांसद भी चुने गए थे। उन्होंने छह बार सीएम के रूप में हिमाचल प्रदेश की बागडोर भी संभाली थी। वीरभद्र सिंह, मनमोहन सिंह के नेतृत्व में 28 मई 2009 को इस्पात मंत्री बनाए गए थे। वह पहली बार 1983 में मुख्यमंत्री बने और 1990 तक लगातार 2 बार इस पद पर बने रहे। इसके बाद 1993 से 1998, 2003 से 2007 और 2012 से 2017 के बीच राज्य के मुख्यमंत्री रहे। वीरभद्र सिंह का राजनीति सफर उपलब्धियों से भरा है। उनके नाम कई राजनीतिक रिकॉर्ड दर्ज हैं। वह सांसद, केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री समेत कई पदों अहम पदों पर रह चुके हैं।

Live TV

-->

Loading ...