national security , Ashwani Sharma

राष्ट्रीय सुरक्षा पर कभी भी धर्म की राजनीति नहीं करनी चाहिए, राष्ट्र सबसे पहले आता है: Ashwani Sharma

चंडीगढ़: सीमा सुरक्षा बल (बी.एस.एफ.) को 50 किलोमीटर का दायरा देने के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ प्रचार करने की कोशिश कर रहे राजनीतिक दलों की कड़ी निंदा करते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने विपक्षी दलों को अपने नीच स्वार्थ के घटिया राजनीति करने के लिए जमकर फटकार लगाई, जिसमें राष्ट्र और राष्ट्रीयता को पीछे रखा गया है। भाजपा पार्टी मुख्यालय में मीडिया से बात करते हुए प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने कहा कि ड्रोन की घटनाएं, टिफिन बम और नशीले पदार्थों की तस्करी की घटनाओं में पिछले कुछ समय में पाकिस्तानी तस्करों द्वारा भारी वृद्धि की गई है और पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब एक सीमावर्ती राज्य होने के कारण पाकिस्तान द्वारा निशाना बनाए जाने के बारे में बार-बार आगाह किया था। अफगानिस्तान में तालिबान भारत के मित्र नहीं हैं।

अश्विनी शर्मा ने खेद व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने केंद्र सरकार के इस निर्णय को गलत बताया है। चन्नी खुद प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मिलने तथा उन्हें राज्य में गंभीर सुरक्षा स्थिति के बारे में जानकारी देने के लिए खुद यात्रा कर जा पहुंचे। शर्मा ने कहा कि अब सभी सीमावर्ती राज्य इस अधिसूचना के तहत आ गए हैं, क्योंकि राष्ट्रीय सुरक्षा देश के अस्तित्व के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। शर्मा ने कहा कि राजनेताओं को ऐसी ओछी व नीच राजनीति से बचना चाहिए। अश्वनी शर्मा ने का कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा बनाने पर विपक्ष नैतिक अधिकार खो देता है। राष्ट्रीयता प्राथमिक चिंता होनी चाहिए ना कि राज्य में चुनाव जीतना। शर्मा ने सभी विपक्षी नेताओं से अनुरोध किया कि वे इस बात को ध्यान रखें कि पंजाब में बट्टे काले दौर नेब काफी खून बह चुका है और पंजाब जबरदस्त उथल-पुथल से गुजर चुका है। उन्होंने कहा कि हम पंजाब सहित सारे देश में  शांति, सद्भाव और समृद्धि चाहते हैं।

Live TV

-->

Loading ...