Wang Yi

वांग यी और ब्रिटेन के विदेश मंत्री के बीच फोन वार्ता

 22 अक्तूबर को चीनी स्टेट कांसुलर, विदेश मंत्री वांग यी ने ब्रिटेन की नई विदेश और विकास मंत्री एलिज़ाबेथ ट्रुस के  साथ फोन पर वार्ता की। वांग यी ने कहा कि चीन और ब्रिटेन दोनों सयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य देश हैं। दोनों देशों के बीच संबंध द्विपक्षीय दायरे से परे हैं और क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्थिति पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। दोनों देशों को रणनीतिक संपर्क बनाए रखना, एक दूसरे के बीच समझ को आगे बढ़ाना, संयुक्त रूप से मतभेदों का प्रबंधन करना चाहिए, ताकि द्विपक्षीय संबंधों के स्वस्थ और स्थिर विकास को बढ़ावा दिया जा सके। यह दोनों देशों के मूल हितों के अनुकूल है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सामान्य अपेक्षा भी है। दोनों पक्षों को आपसी सम्मान और सहिष्णुता की भावना से बातचीत करनी चाहिए और द्विपक्षीय संबंधों में सकारात्मक स्थिति पैदा करने का प्रयास करना चाहिए।
  
 वांग यी ने कहा कि चीन और ब्रिटेन के अर्थतंत्र एक-दूसरे के पूरक हैं, और दोनों के बीच सहयोग की बड़ी निहित शक्ति भी है। इस वर्ष द्विपक्षीय व्यापार रकम एक खरब डॉलर को पार करने की संभावना है। आधुनिक वित्तीय सेवा उद्योग, स्वच्छ ऊर्जा, डिजिटल अर्थव्यवस्था आदि क्षेत्रों में दोनों पक्षों के बीच सहयोग का विशाल भविष्य है। यदि चीन-ब्रिटेन सहयोग जारी रहता है, तो यह निश्चित रूप से अपनी अपनी राष्ट्रीय विकास रणनीतियों के लिए मजबूत समर्थन प्रदान करेगा। 
  
 वांग यी ने कहा कि चीन अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच त्रिपक्षीय सुरक्षा साझेदारी की स्थापना और परमाणु पनडुब्बी सहयोग के विकास के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त करता है। इससे परमाणु प्रसार का गंभीर खतरा पैदा होना तय है। इस क्षेत्र में एक नए सैन्य समूह के निर्माण से हथियारों की होड़ शुरू हो जाएगी, प्रमुख शक्तियों के बीच टकराव को बढ़ावा मिलेगा और क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को नुकसान होगा। चीन इस समझौते का विरोध करता है।
   
एलिज़ाबेथ ट्रुस ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य देशों के रूप में चीन और ब्रिटेन के बीच नियमित संपर्क बनाए रखना महत्वपूर्ण है। ब्रिटेन और चीन को उच्च स्तरीय आदान-प्रदान और रणनीतिक संचार को मजबूत करना चाहिए, आपसी समझ को गहरा करना चाहिए, विभिन्न क्षेत्रों में व्यावहारिक सहयोग को गहरा करना चाहिए और द्विपक्षीय संबंधों के विकास को बढ़ावा देना चाहिए। जलवायु परिवर्तन ब्रिटेन और चीन के बीच सहयोग का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन के दलों के सम्मेलन की 26वीं बैठक की सफलता को बढ़ावा देने के लिए ब्रिटेन चीन के साथ सहयोग को मजबूत करना चाहता है। ट्रुस ने अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच त्रिपक्षीय सुरक्षा साझेदारी के बारे में भी बताया। 

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)
   

Live TV

-->

Loading ...