Navjot Singh Sidhu, Punjab News, Captain Amarinder Singh, Sugarcane Farmer

गन्ना किसानों के समर्थन में नवजोत सिद्धू ने फिर किया ट्वीट, बताया 'पंजाब मॉडल' का मतलब

चंडीगढ़ः पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर किसानों के समर्थन में ट्वीट किया है। सिद्धू ने कहा कि गन्ना खेती करने वालों के लिए राज्य का सुझाव मूल्य (SAP) 2018 से नहीं बढ़ा है, जबकि लागत 30 तक बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि 'पंजाब मॉडल' का मतलब उचित मूल्य, मुनाफे का समान वितरण, फसल विविधता, उत्पादन और उत्पादन प्रक्रिया के लिए लाभकारी नीतियां बनाकर किसानों और मिल मालिकों को अधिक मुनाफा पहुंचाने का प्रबंध करना है।

सिद्धू ने कहा कि राज्य द्वारा सुझाए गए मूल्य (SAP) को किसानों की मांग के मुताबिक बढ़ाया जाना चाहिए और बकाया का भी जल्द भुगतान किया जाना चाहिए। साथ ही चीनी मिलों और किसानों का मुनाफा बढ़ाने के लिए अधिक उत्पादकता और इससे बनते कीमती पदार्थ जैसे इथेनॉल, जीवाश्म ईंधन और बिजली के उत्पादन के लिए चीनी मिलों का भी आधुनिकीकरण किया जाना चाहिए।

 
इससे पहले सिद्धू ने ट्वीट कर कहा था कि गन्ने की खेती करने वालों के मुद्दे को जल्द हल किया जाना चाहिए। आश्चर्यजनक है कि पंजाब में बिजली की लागत ज्यादा होने के बावजूद राज्य द्वारा सुझाए गए मूल्य (SAP) हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से काफी कम है। पंजाब में गन्ने का मूल्य इन राज्यों से अधिक होना चाहिए। बता दें कि, गन्ने की कीमत को लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज किसानों के साथ दोपहर 3 बजे बैठक करेंगे। इस बैठक में अंतिम फैसला लिया जा सकता है।

 

वहीं, सोमवार को जालंधर में किसान नेताओं की डिप्टी कमिश्नर के दफ्तर में कृषि माहिरों के साथ बैठक हुई। इस बैठक में कृषि माहिरों ने अपना और किसानों ने अपना पक्ष रखा। किसान नेता मनजीत सिंह राय ने कहा कि उन्होंने कृषि माहिरों को बताया कि किसानों के मुताबिक गन्ने की पैदावार की लागत 470 रुपए प्रति क्विंटल बनती है। वहीं कृषि माहिरों ने यह लागत 345 से 350 रुपए प्रति क्विंटल कही है। राय ने कहा कि जो लागत कीमत किसानों ने वर्कआऊट की थी उसे कृषि माहिरों ने चुनौती नहीं दी। 




Live TV

-->

Loading ...