Narendra Modi Mann ki baat

मन की बात में बोले PM Modi- 100 करोड़ वैक्सीन डोज के बाद देश नए उत्साह और नई ऊर्जा से बढ़ रहा आगे

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देश के लोगों को संबोधित कर रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने देश में 100 करोड़ वैक्सीनेशन को लेकर भी बात की और साथ ही स्वास्थ्यकर्मियों के कार्य की सराहना की। 

पीएम मोदी ने इस संबोधन में कहा कि 100 करोड़ वैक्सीन डोज़ के बाद आज देश नए उत्साह और नई ऊर्जा से आगे बढ़ रहा है। हमारे वैक्सीन कार्यक्रम की सफलता भारत के सामर्थ्य को दिखाती है, सबके प्रयास के मंत्र की शक्ति को दिखाती है। स्वास्थ्यकर्मियों के कार्य की सराहना भी कहा और कहा कि हमारे स्वास्थ्यकर्मियों ने अपने अथक परिश्रम और संकल्प से एक नई मिसाल पेश की। उन्होंने इनोवेशन के साथ अपने दृढ़ निश्चय से मानवता की सेवा का एक नया मानदंड स्थापित किया। 

अगले महीने 15 नवंबर को देश के वीर योद्धा भगवान बिरसा मुंडा की जन्म जयंती का भी मोदी ने जिक्र किया और कहा भगवान बिरसा मुंडा को धरती आबा भी कहा जाता है, इसका अर्थ धरती पिता होता है। भगवान बिरसा मुंडा ने जिस तरह अपनी संस्कृति, जंगल, जमीन की रक्षा के लिए संघर्ष किया वो धरती आबा ही कर सकते थे।

गरीबी, जलवायु परिवर्तन और श्रमिकों से संबंधित मुद्दों के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी बोले ,' भारत ने सदैव विश्व ​शांति के लिए काम किया है। हमें इस बात का गर्व है कि भारत 1950 के दशक से लगातार संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन का हिस्सा रहा है। गरीबी हटाने, जलवायु परिवर्तन और श्रमिकों से संबंधित मुद्दों के समाधान में भी भारत अग्रणी भूमिका निभा रहा है। 

सेना और पुलिस फोर्स में महिलाओं की भागीदारी का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पहले ये धारणा बन गई थी कि सेना और पुलिस जैसी सेवा केवल पुरुषों के लिए ही होती है लेकिन आज ऐसा नहीं है। पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि पिछले कुछ वर्षों में महिला पुलिसकर्मियों की संख्या दोगुनी हो गई है।

पहले ड्रोन सेक्टर में थे कड़े नियम और प्रतिबंध 

ड्रोन सेक्टर में कड़े नियम और प्रतिबंधों लगाकर रखे गए थे कि इसकी असली क्षमता का इस्तेमाल भी संभव नहीं था। जिस तकनीक को अवसर के तौर देखा जाना चाहिए था, उसे संकट के तौर पर देखा गया। पीएम मोदी बोले अगर आपको किसी भी काम के लिए ड्रोन उड़ाना है तो लाइसेंस और प​रमिशन का इतना झंझट होता था कि लोग ड्रोन के नाम से ही तौबा कर लेते थे। हमने तय किया कि इस माइंडसेट को बदला जाए और नए ट्रेंड को अपनाया जाए। इसलिए इस साल 25 अगस्त को देश नई ड्रोन नीति लेकर आया।

Live TV

-->

Loading ...