energy sector

आजादी के सौ साल पूरे होने से पहले देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आजादी के 100 साल पूरे होने से पहले देश को ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प जताया। उन्होंने कहा कि देश की प्रगति और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना जरूरी है। प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से 75वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘देश की प्रगति और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए ऊर्जा के क्षेत्र में स्वतंत्र होना अनिवार्य है।’’ 

मोदी ने कहा कि देश आज ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर नहीं है। ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिये हर साल 12 लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च देश को करना पड़ता है। उन्होंने कहा, ‘‘ऊर्जा के मामले में स्वतंत्र होने के लिये भारत को ये संकल्प लेना होगा कि आजादी के 100 साल होने से पहले देश को ऊर्जा के मामले में आत्मनिर्भर बनाएंगे।’’ उल्लेखनीय है कि भारत अपनी जरूरत का करीब 80 प्रतिशत कच्चा तेल दूसरे देशों से आयात करता है। इससे देश को कच्चे तेल के आयात पर अच्छा खासी राशि खर्च करनी पड़ती है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि देश नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है और इस क्षेत्र में स्थापित क्षमता एक लाख मेगावाट को पार कर गयी है।देश ने 2022 तक नवीकरणीय ऊर्जा की स्थापित क्षमता 1,75,000 मेगावाट पहुंचाने का महत्वकांक्षी लक्ष्य रखा है।

Live TV

Breaking News


Loading ...