PM Narendra Modi Balwant Moreshwar Purandare

PM Modi समेत कई नेताओं ने पुरंदरे के निधन पर किया शोक व्यक्त

पुणे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जाने-माने इतिहासकार बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए सोमवार को कहा कि उनके निधन से इतिहास एवं संस्कृति की दुनिया में एक बड़ा खालीपन पैदा हो गया है। उन्होंने कहा कि पुरंदरे के कारण भावी पीढ़ी मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी से और अधिक जुड़ाव महसूस करेगी। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने भी 99 वर्षीय इतिहासकार के निधन पर शोक व्यक्त किया। महाराष्ट्र सरकार ने बताया कि पुरंदरे का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।
 
जाने-माने इतिहासकार और पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे का सोमवार को पुणे के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 99 वर्ष के थे। बाबासाहेब पुरंदरे के नाम से लोकप्रिय इतिहासकार कुछ समय से बीमार थे। पुरंदरे की अधिकतर कृतियां मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी महाराज पर केंद्रित हैं। उनकी पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए यहां उनके निवास ‘पुरंदरेवाडा’ में रखा गया है। उन्हें श्रद्धांजलि देने लिए सुबह से उनके आवास पर कई लोग पहुंचे हैं। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे और पुणे के महापौर मुरलीधर मोहोल समेत कई लोगों ने यहां पुरंदरे को श्रद्धांजलि दी।
 
मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ मैं अपने दु:ख को शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता। शिवशाहीर बाबासाहेब पुरंदरे के निधन ने इतिहास एवं संस्कृति की दुनिया में एक बड़ा खालीपन पैदा कर दिया है। पुरंदरे के कारण भावी पीढ़ी छत्रपति शिवाजी महाराज से और अधिक जुड़ाव महसूस करेगी। उनके अन्य कार्य भी सदैव याद रखे जाएंगे।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि पुरंदरे को भारतीय इतिहास का गहरा ज्ञान था।

उन्होंने एक समारोह के अपने संबोधन का वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘ पिछले कुछ वर्षों में मुझे उनसे अत्यंत निकटता से बात करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। कुछ महीने पहले, उनके शताब्दी वर्ष समारोह को संबोधित किया था।’’ मोदी ने कहा कि अपने व्यापक कार्यों के कारण पुरंदरे हमेशा जीवित रहेंगे। उन्होंने पुरंदरे के परिवार और उनके प्रशंसकों के प्रति संवेदना प्रकट की। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी ने एक वीडियो संदेश में कहा कि पुरंदरे ने समकालीन छात्रों एवं युवाओं को शिवाजी महाराज एवं उनके कार्यों के बारे में बताया और इसके कारण लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा हुई।
 
उन्होंने कहा, ‘‘मैं भी कई ऐसे लोगों में शामिल हूं, जो अपनी युवावस्था में पुरंदरे से प्रेरित हुए और हमें छत्रपति शिवाजी महाराज के व्यक्तित्व का ज्ञान हुआ। मैं उन्हें (पुरंदरे को) कभी नहीं भूलूंगा।’’ गडकरी ने इतिहास के क्षेत्र में पुरंदरे के योगदान की प्रशंसा करते हुए कहा कि भावी पीढि़यां उन्हें कभी नहीं भूलेंगी।

राकांपा प्रमुख पवार ने पुरंदरे के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, ‘‘शिवशाहीर बाबासाहेब पुरंदरे के निधन के साथ महाराष्ट्र ने साहित्य एवं कला के क्षेत्र में अपनी चमक खो दी। मैं उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि देता हूं।’’

Live TV

-->

Loading ...