महाशिवरात्रि

जानिए इस बार कब आ रहा है महाशिवरात्रि का व्रत और इसकी पूजा विधि

माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। महाशिवरात्रि का दिन भगवान भोलेनाथ जी को अर्पित होता है। माना जाता है के भगवान शिव जी अपने भगतो की पूजा से बहुत जल्दी प्रसन्न होते है और उनकी मनोकामनाएं पूरी करते है। मान्यता यह भी है के अगर किसी लड़की की शादी में किसी भी प्रकार की कोई भी रूकावट आती है तो महाशिवरात्रि के दिन उसे व्रत अवश्य रखना चाहिए इससे शादी में आने वाली सभी रुकावटे दूर हो जाती है। भगवान शिव जी की पूजा करने से सभी अशुभ ग्रह ठीक होते है और जीवन में सुख समृद्धि आती है। भगवान शिव जी की पूजा के लिए महाशिवरात्रि का पर्व सबसे उत्तम माना गया है। आज हम आपको बताने जा रहे है के इस बार कब आ रहा है महाशिवरात्रि का पर्व। 

महाशिवरात्रि कब है?
पंचांग के अनुसार माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है. इस वर्ष महाशिवरात्रि का पर्व 11 मार्च 2021 गुरुवार के दिन मनाया जाएगा.

महाशिवरात्रि व्रत और पूजा का शुभ मुहूर्त :
महाशिवरात्रि: 11 मार्च 2021
निशिता काल पूजा समय: 00:06 से 00:55, मार्च 12
अवधि: 00 घण्टे 48 मिनट
12 मार्च 2021: शिवरात्रि पारण समय - 06:34 से 15:02
रात्रि प्रथम प्रहर पूजा समय: 18:27 से 21:29
रात्रि द्वितीय प्रहर पूजा समय: 21:29 से 00:31, मार्च 12
रात्रि तृतीय प्रहर पूजा समय: 00:31 से 03:32, मार्च 12
रात्रि चतुर्थ प्रहर पूजा समय: 03:32 से 06:34, मार्च 12
चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ: 11 मार्च को 14:39 बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त: 12 मार्च को 15:02 बजे

पूजा विधि :
शिवरात्रि के दिन स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लेना चाहिए. इसके उपरांत विधिवत पूजा आरंभ करनी चाहिए. पूजा के दौरान कलश में जल या दूध भरकर शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए. शिवलिंग का बेलपत्र, आक फूल, धतूरे के फूल आदि भी अर्पित करने चाहिए. इस दिन शिवपुराण, महामृत्युंजय मंत्र, शिव मंत्र और शिव आरती का पाठ करना चाहिए. महाशिवरात्रि पर रात्रि जागरण भी किया जाता है.

Live TV

Breaking News


Loading ...