struggle

जानिए क्या आपकी कुंडली में भी लिखा संघर्ष योग ?

आज कल लोग अपने सभी शुभ कार्य कुंडली दिखा कर शुरू करते है। कुछ लोगो की कुंडली बहुत ही अच्छी होती है। लेकिन कभी कभी कुछ लोगो की कुंडली में कोई न कोई दोष आ जाता है। जैसे के कुछ लोगो की कुंडली में संगर्ष लिखा होता है। तो आइए जानते है इससे कुछ खास बातें :

1. जब लग्नेश त्रिक भाव में पाप ग्रह से पीड़ित हो या लग्न या चंद्र पाप कर्तरी प्रभाव में हो तो संघर्ष योग कहलाता है। संघर्ष योग से व्यक्ति को जीवन के हर क्षेत्र में संघर्ष कर जीवन बिताना पड़ता है।

2. यदि धनेश पाप भाव 6, 8 या 12वें भाव में हो, धनेश यदि अपनी नीच राशि में हो, यदि धन भाव में कोई पाप योग जैसे गुरु चांडाल योग, ग्रहण योग आदि बना हो, यदि लाभेश भी पाप भाव 6, 8 या 12वें में हो, शुक्र यदि अपनी नीच राशि कन्या में हो, शुक्र का कुंडली के आठवें भाव में हो या जब शुक्र केतु के साथ हो तो आर्थिक पक्ष संघर्षमय बना रहता है।

3. उपरोक्त योग से बचने के लिए गुरु और शुक्र के उपाय करना चाहिए।

Live TV

Breaking News


Loading ...