HUKNAMA SHRI HARIMANDIR SAHIB JI, DHARAM NEWS

हुक्मनामा श्री हरिमंदिर साहिब जी 27 सितंबर

सोरथी महला 3 ॥ बिन सतगुरु की सेवा के, सब जग दुखिया॥ तू दिनो का देवता, सब का तन बुझा1 ॥ प्रभु कृपा करो, तुम मेरे प्यारे हो ॥॥ प्रभु नाम से मिलो, दे सहारा॥ सोरठि महला ३ ॥   बिनु सतिगुर सेवे बहुता दुखु लागा जुग चारे भरमाई ॥   हम दीन तुम जुगु जुगु दाते सबदे देहि बुझाई ॥१॥    हरि जीउ क्रिपा करहु तुम पिआरे ॥   सतिगुरु दाता मेलि मिलावहु हरि नामु देवहु आधारे ॥ रहाउ ॥  

अरे भाई! गुरु की शरण बिना मनुष्य बहुत कष्ट पा रहा है, मनुष्य सदा भटक रहा है । हे प्रभु! हम (जीव, आपके द्वार पर) मांगते हैं, आप सदा (हमें) दाता हैं, (हमें आशीर्वाद देते हैं, गुरु वचन में जोड़ कर आध्यात्मिक जीवन की समझ देते हैं ॥ 1 ॥ प्रिय प्रभु! दया करो मुझ पर, गुरु मिल जाओ जो दे दे नाम का, जीवन का सहारा । मुझे अपना नाम देते रहो ।



Live TV

Breaking News


Loading ...