History of 15 September , M. Visvesvaraya

15 सितंबर का इतिहास : भारत के सबसे बड़े इंजीनियर M. Visvesvaraya का जन्‍म हुआ

15 September History: इतिहास से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो नहीं हो सकता. इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं. इसी कड़ी में जानेंगे आज 15 सितंबर को देश-दुनिया में क्या हुआ था, कौन सी बड़ी घटनाएं घटी थीं जिसने इतिहास के पन्नों पर अपना प्रभाव छोड़ा. जानेंगे, आज के दिन जन्में खास व्यक्तियों के बारे में। 


1860: भारत के सबसे बड़े इंजीनियर समझे जाने वाले एम विश्वेश्वरैया का जन्‍म हुआ. इसे देश में इंजीनियर्स डे के तौर पर मनाया जाता है. 
1916: प्रथम विश्व युद्ध में पहली बार सोम्मे की लड़ाई में टैंक का इस्तेमाल किया गया.
1931: गांधी-इरविन समझौता हुआ.
1940: द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान ब्रिटेन की वायुसेना ने दावा किया कि इसने हिटलर की जर्मन वायुसेना को शिकस्त दे दी है.
1948: स्वतंत्र भारत का पहला ध्वजपोत आईएनएस दिल्ली बंबई (अब मुंबई) के बंदरगाह पर पहुंचा.
1959: भारत की राष्ट्रीय प्रसारण सेवा दूरदर्शन की शुरुआत हुई.
1971: हरी-भरी और शांति पूर्ण दुनिया के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध ग्रीन पीस की स्थापना की गई.
1981: वानुअतु संयुक्त राष्ट्र संघ का सदस्य बना.
2003: सिंगापुर के मुद्दे पर विकासशील देशों के भड़क उठने से डब्ल्यूटीओ वार्ता विफल.
2004: ब्रिटिश नागरिक गुरिंदर चड्ढा को ‘वूमैन आफ़ द ईयर’ सम्मान.
2017: कासीनी अंतरिक्ष यान शनि के उपग्रह टाइटन से टकरा गया.

Live TV

Breaking News


Loading ...