Harish Rawat, Navjot Singh Sidhu, Captain Amarinder Singh, Punjab News

'पंज प्यारे' वाले बयान पर हरीश रावत ने मांगी माफी, कहा- गुरुद्वारे में कुछ देर झाड़ू लगाकर करुंगा प्रायश्चित

चंडीगढ़ः पंजाब कांग्रेस में कलह दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। अगले ही साल राज्य में चुनाव होने हैं, लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह एक-दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। वहीं दोनों के बीच बढ़ती कलह को खत्म करवाने में जुटे पंजाब कांग्रेस इंचार्ज हरीश रावत अब खुद विवादों में घिर गए हैं। दरअसल, रावत ने सिद्धू और उनकी टीम के 4 कार्यकारी अध्यक्षों की तुलना सिख धर्म के महान पंच प्यारे से कर दी, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया है। वहीं विवाद बढ़ते देख हरीश रावत ने ट्वीट कर मांफी मांगी है। 

उन्होंने कहा कि कभी आप आदर व्यक्त करते हुए, कुछ ऐसे शब्दों का उपयोग कर देते हैं जो आपत्तिजनक होते हैं। मुझसे भी कल पंजाब कांग्रेस प्रधान व 4 कार्यकारी अध्यक्षों के लिए पंज प्यारे शब्द का उपयोग करने की गलती हुई है। मैं देश के इतिहास का विद्यार्थी हूं और पंज प्यारों के अग्रणी स्थान की किसी और से तुलना नहीं की जा सकती है। मुझसे ये गलती हुई है और मैं लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए क्षमा प्रार्थी हूं। मैं प्रायश्चित स्वरूप अपने राज्य के किसी गुरुद्वारे में कुछ देर झाड़ू लगाकर सफाई करूंगा। 

उन्होंने कहा कि मैं सिख धर्म और उसकी महान परंपराओं के प्रति हमेशा समर्पित भाव और आदर भाव रखता रहा हूं। मैंने चंपावत जिले में स्थित श्री रीठा साहब के मीठे-रीठे, देश के राष्ट्रपति से लेकर, न जाने कितने लोगों को प्रसाद स्वरूप पहुंचाने का काम किया है। जब मुख्यमंत्री बना तो श्री नानकमत्ता साहब और रीठा साहब, जहां दोनों स्थानों पर श्री गुरु नानक देव जी पधारे थे, सड़क से जोड़ने का काम किया। 

Live TV

-->

Loading ...