Gudi Padwa

Gudi Padwa 2021: जानिए गुड़ी पड़वा की तिथि, शुभ मुहूर्त, कथा और पूजा विधि के बारे में

इस साल पंचांग के अनुसार 13 अप्रैल दिन मंगलवार को गुड़ी पड़वा का पर्व आ रहा है। माना जाता है के इसी दिन नवरात्री के दिनों यानि नवरात्री के पर्व की भी शुरुआत होती है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार गुड़ी पड़वा से ही हिंदू नववर्ष का आरंभ होगा। इस पर्व को महाराष्ट्र और केरल में बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता है। 

गुड़ी पड़वा की कथा
पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन भगवान राम लंकापित को पराजित कर अयोध्या लौटे थे. वहीं ये भी मान्यता है कि इसी दिन ब्रह्माजी ने सृष्टि का निर्माण किया था और इसी दिन से पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत हुई थी. इसीलिए इस दिन ब्रह्माजी की विशेष पूजा का विधान भी है.

गुड़ी पड़वा शुभ मुहूर्त
गुड़ी पड़वा तिथि: 13 अप्रैल 2021
प्रतिपदा तिथि आरंभ: 12 अप्रैल, सोमवार की सुबह 08 बजे से.
प्रतिपदा तिथि समाप्त: 13 अप्रैल, मंगलवार की सुबह 10 बजकर 16 मिनट तक.

गुड़ी पड़वा का महत्व
महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा का विशेष महत्व है. इस दिन घरों में मीठी रोटी बनाई जाती है. जिसे पूरन पोली कहा जाता है. पूरन पोली गुड़, नमक, नीम के फूल, इमली और कच्चा आम मिलाकर बनाई जाती है. गुड़ी पड़वा पर नीम खाने की भी परंपरा है. नीम कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने में सक्षम माना गया है. गुड़ी पड़वा पर भगवान सूर्य देव की पूजा की जाती है. इसके साथ ही भगवान राम, मां दुर्गा और हनुमान जी की भी पूजा की जाती है.