#LatestNews #DainikSaveraNews #DainikSaveraNo1News #PoliticalNews #SocialNews #Government #Manohar

सरकार अति गरीब परिवारों की आमदनी बढ़ाकर उनका करेगी उत्थान: मनोहर लाल

रोहतक : डॉ. मंगल सैन के अंत्योदय के सपने को साकार करते हुए हरियाणा सरकार का लक्ष्य अति गरीब परिवारों की आमदनी बढ़ाकर उन्हें एपीएल श्रेणी में लाना है ताकि वे अपनी मेहनत व लगन से अपना जीवनयापन कर सके। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार द्वारा अंतिम पंक्ति में खड़े परिवारों के उत्थान के लिए मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना शुरू की गई है। इसके तहत एक लाख से कम वार्षिक आय वाले लगभग साढ़े तीन लाख परिवारों को चिन्हित किया गया है। जिन्हें अंतोदय ग्राम उत्थान मेलों के माध्यम से कल्याणकारी योजनाओं का मौके पर लाभ प्रदान करके उनकी आमदनी को दो लाख तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है। 

प्रदेश में 25 दिसंबर तक ऐसे मेलों का आयोजन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री रोहतक में महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में हरियाणा के पूर्व उपमुख्यमंत्री डॉ. मंगल सैन की 31वीं पुण्यातिथि पर पुस्तक विमोचन के बाद बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने विश्वविद्यालय परिसर में 2.5 करोड़ की लागत से डॉ. मंगल सैन बहुवैकल्पिक हॉल के नवीनीकरण कार्य का उद्घाटन एवं लगभग 8.50 करोड़ की राशि से बनने वाले कब्बडी हॉल का शिलांयास किया। उन्होंने डॉ. मंगल सैन की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करके श्रद्घांजलि दी।

डॉ. मंगल सैन ने हमेशा समाजसेवा में लगाया अपना जीवन

मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ. मंगल सैन ने हमेशा समाजसेवा में अपना जीवन लगाया। उन्होंने देश के विभाजन के बाद विस्थापित होकर आए पीड़ित लोगों के कैंपों में जाकर सेवा की और उन्हें दवाइयां दी। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों का आहवान किया कि वे डॉ. मंगल सैन के जीवन को पढ़ें और उनसे परोपकार की भावना व समाजसेवा की भावना ग्रहण करें। सरकार द्वारा विभिन्न विश्वविद्यालयों में अनेक महापुरुषों के जीवन व विचारों पर शोध के लिए 40 से ज्यादा शोध पीठें स्थापित की गई हैं ताकि इनके माध्यम से युवा पीढ़ी को इन महापुरु षों के विचारों से अवगत करवाया जा सके। उन्होंने उपस्थितगण का आहवान किया कि वे डॉ. मंगल सैन द्वारा दिखाए गए अंत्योदय के रास्ते का अनुसरण करें और यही उन्हें सच्ची श्रद्घांजलि होगी। सरकार द्वारा 27 अक्तूबर को उनकी जयंती पर ही डॉ. मंगल सैन शोध पीठ का गठन करने का निर्णय लिया।  

सरकार द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं में किया जा रहा विस्तार

मुख्यमंत्री ने डॉ. मंगल सैन के साथ व्यतीत किए समय को स्मरण करते हुए कहा कि उन्होंने डॉ. मंगल सैन के साथ कई वर्ष तक कार्य करने और उनसे समाजसेवा बारे बहुत कुछ सीखा है। उन्होंने 1981 में सामाजिक जीवन की शुरूआत की थी और 1984 तक वे डॉ. मंगल सैन के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़े रहे। सभी विश्वविद्यालय आर्थिक रूप से स्वयं सक्षम बनें। इसके लिए हर वर्ष एलुमनि मिलन समारोह का आयोजन किया जाए। जिसमें संस्थान से शिक्षा प्राप्त करने वाले व्यक्ति शामिल हों और अपनी सार्मथ्य अनुसार संस्थान के विस्तार में अपना योगदान दें।  

Live TV

Breaking News


Loading ...