Former JDU MLA

Samastipur के CPM नेता पर जानलेवा हमले के आरोप में पूर्व JDU विधायक और उनके भाई को 5 साल की सजा

समस्तीपुर : समस्तीपुर के एम.पी.-एम.एल.ए. अदालत ने सी.पी.एम. के नेता ललन सिंह पर हुए जानलेवा हमला मामले में सोमवार को सजा का ऐलान कर दिया। अदालत ने जनता दल युनाइटेड के प्रदेश महासचिव और पूर्व विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई लाल बाबू सिंह को 5 साल की सजा सुनाई है।  इसके साथ ही 15000 रुपए जुर्माना लगाया है। पीड़ित पक्ष के वकील सुनील कुमार कर्ण ने बताया कि विभूतिपुर थाना में हत्या करने की नीयत से फायरिंग करने के मामले में पूर्व जे.डी.यू. विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई लाल बाबू को दोषी पाया, जिसमें न्यायालय ने उन्हें 5 साल की सजा और 15000 रुपए का जुर्माना लगाया है। 

उन्होंने बताया कि समस्तीपुर ए.डी.जे. 3 एम.पी.-एम.एल.ए. कोर्ट ने 27 आर्म्स एक्ट के धारा में दोषियों को 5 साल की सजा, धारा 324 मामले में 3 साल की सजा, धारा 323 में 1 साल की सजा और धारा 341 में एक महीने की सजा के साथ 15000 रुपए का जुर्माना सुनाया है। इस दौरान सभी सजाएं एक साथ चलेंगे। उन्होंने बताया कि यह घटना 4 जून, 2000 की है जब सी.पी.एम. के नेता ललन सिंह विभूतिपुर थाना क्षेत्र के शिवनाथपुर में एक शादी समारोह में शामिल होने गए थे, उसी जगह रामबालक सिंह और उनके भाई के द्वारा उन्हें मारने का प्रयास किया गया, लेकिन वहां मौजूद लोगों ने बीच-बचाव करते हुए उन्हें बचा लिया। 

इस दौरान मौका देखकर ललन सिंह वहां से भाग निकले, मगर रामबालक सिंह और उनके भाई लाल बाबू सिंह ने मोटरसाइकिल से पीछा कर उन्हें पकड़ लिया और उनके ऊपर गोली चला दी, जिस दौरान ललन सिंह घायल हो गए थे। इस दौरान अदालत का फैसला आने के बाद ललन सिंह ने प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि अगर इस मामले को लेकर पूर्व विधायक रामबालक सिंह हाईकोर्ट जाते हैं तो वहां भी वो न्याय की लड़ाई लड़ेंगे। इस मामले में रामबालक सिंह के वकील अमिताभ भारद्वाज का कहना है कि वो कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन वह हाईकोर्ट में इसके विरुद्ध अपील करेंगे।

Live TV

-->

Loading ...