Uttar Pradesh Bulandshahr

खुली मंडियों पर सस्ते में गेहूं बेच रहे किसान, लेकिन उससे पहले कर रहे ये काम

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में समर्थन मूल्य योजना के अंतर्गत गेहूं खरीद के काम में तेजी नहीं आ पा रही है और किसान अपना गेहूं सरकारी क्रय केंद्रों पर बेचने के स्थान पर सस्ते दामों पर खुली मंडियों में बेच रहा है।
      
गेहूं का समर्थन मूल्य 1975 रुपए प्रति कुंतल है वहीं खुली बाजार में गेहूं 1800 से 1850 रुपए प्रति कुंतल बिक रहा है। बुलंदशहर जनपद की पूरी अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है और जिला समर्थन मूल्य योजना के तहत गेहूं खरीद में सदैव अग्रणी रहा है। गेहूं खरीद के जिला अधिकारी एवं अपर जिला मजिस्ट्रेट वित्त राजस्व सहदेव मिश्र ने बताया कि इस बार जिले में 107 क्रय केंद्र स्थापित किए गए हैं जिसमें 87 क्रय केंद्र पीसीएफ के 15 केंद्र हाट शाखा के चार केंद्र भारतीय खाद्य निगम के और एक केंद्र मंडी समिति का है जिन पर सभी प्रकार की व्यवस्थाएं की गई। गेहूं खरीद में पारदर्शिता लाने के लिए पोर्टल से क्रय केंद्र क्षेत्रवार गांव से संबंध किए गए हैं। इससे किसान अपना गेहूं संबद्ध क्रय केंद्र पर ही बेच सकते हैं।

पहले कराना होगा पंजीकरण 
      
एडीएम ने बताया कि जिले में गेहूं उत्पादक किसानों की संख्या तीन लाख 14 हजार है जो किसान अपना गेहूं सरकारी क्रय केंद्र पर बेचने के इच्छुक हैं पहले उनको अपना पंजीकरण कराना होगा। अभी तक 12000 के लगभग किसानों ने अपना गेहूं बेचने के लिए पोर्टल पर पंजीयन कराया है। प्रत्येक क्रय केंद्र पर कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए गेहूं खरीद के निर्देश दिए गए हैं। क्रय केंद्रों पर सभी प्रकार की आवश्यक व्यवस्थाएं उपलब्ध है।

Live TV

Breaking News


Loading ...