FPI, Foreign portfolio investors, foreign direct investment

शेयरों में FPI का प्रवाह 36 अरब डॉलर पर, 2012-13 के बाद सबसे अधिकः रिपोर्ट

नई दिल्लीः विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) का भारतीय शेयरों में निवेश चालू वित्त वर्ष में 10 मार्च तक 36 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्चस्तर पर पहुंच गया है। रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार यह वित्त वर्ष 2012-13 से शेयरों में FPI का सबसे ऊंचा निवेश है। वहीं दूसरी ओर शुद्ध प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) जनवरी के अंत तक बढ़कर 44 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। एक साल पहले यह 36.3 अरब डॉलर पर था। नवंबर और दिसंबर में जबर्दस्त प्रवाह से FDI बढ़ा है। दिसंबर में FDI रिकॉर्ड 6.3 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंचा था।

रिजर्व बैंक के मार्च के बुलेटिन के अनुसार शेयरों में निवेश घटने की वजह से जनवरी में FDI प्रवाह नीचे आया है। बुलेटिन में कहा गया है, ‘‘FPI ने चालू वित्त वर्ष में इक्विटी खंड में शुद्ध लिवाली की है। वहीं इस अवधि के दौरान ऋण या बांड बाजार में वे शुद्ध बिकवाल रहे है। कुल मिलाकर चालू वित्त वर्ष में 10 मार्च तक FPI ने शेयरों में शुद्ध रूप से 36 अरब डॉलर डाले हैं।’’

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अवधि में FPI के निवेश की गुणवत्ता सुधरी है। फरवरी के अंत तक श्रेणी-एक के विदेशी निवेशकों मसलन केंद्रीय बैंक, सॉवरेन संपदा कोष, पेंशन कोष, नियमन वाली इकाइयां, बहुपक्षीय संगठनों का कुल इक्विटी परिसंपत्तियों में हिस्सा बढ़कर 95 प्रतिशत के उच्चस्तर पर पहुंच गया। दिसंबर, 2019 के अंत तक यह 87 प्रतिशत पर था।

Live TV

Breaking News


Loading ...