Sumedh Saini, Punjab News, Vigilance, Court

आज दोपहर कोर्ट में होगी पूर्व डीजीपी Sumedh Saini की पेशी, 8 दिन की रिमांड मांग सकता है विजिलेंस विभाग

चंडीगढ़: पंजाब विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो ने राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुमेध सिंह सैनी को 2020 में जमीन की बिक्री से संबंधित एक धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया है और उन्हें गुरुवार को एक अदालत में पेश किए जाने की संभावना है। जेड प्लस श्रेणी सुरक्षा प्राप्त सैनी एक अन्य मामले में जांच में शामिल होने के लिए बुधवार शाम मोहाली में सतर्कता ब्यूरो कार्यालय पहुंचे, जहां उन्हें धोखाधड़ी के मामले में औपचारिक रूप से गिरफ्तार किया गया।

उन्हें आय से अधिक संपत्ति के मामले में पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय से अंतरिम अग्रिम जमानत मिली थी। उन्हें एक सप्ताह के भीतर जांच में शामिल होने के लिए कहा गया था। 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी सैनी पर हत्या, अपहरण, भ्रष्टाचार और मानवाधिकारों के उल्लंघन सहित कई आरोप हैं। वह विजिलेंस ब्यूरो के भी प्रमुख भी रह चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि सैनी को गिरफ्तारी के बाद से ही विजिलेंस ब्यूरो के बैरक में रखा गया है। 

सैनी को 2015 में मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल द्वारा गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटनाओं और राज्य में बाद में हुई हिंसा के बाद शीर्ष पद से हटा दिया गया था। अमरिंदर सिंह ने डीजीपी सैनी को बर्खास्त करने और उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की थी। दरअसल, सैनी ने अमरिंदर सिंह से जुड़े करोड़ों रुपये के लुधियाना सिटी सेंटर घोटाले में विजिलेंस ब्यूरो की क्लोजर रिपोर्ट को चुनौती दी थी। 

पंजाब पुलिस के एक पूर्व कांस्टेबल गुरमीत सिंह उर्फ पिंकी द्वारा किए गए खुलासे का संज्ञान लेते हुए अमरिंदर सिंह ने डीजीपी सैनी को बर्खास्त करने और उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की थी। गुरमीत सिंह ने  2015 में आरोप लगाया था कि पंजाब में आतंकवाद के दौर में कई लोगों को बिना ट्रायल के ही मार दिया गया था।

Live TV

-->

Loading ...