compromise , BJP

लखीमपुर खीरी मामले में बीजेपी से किसी तरह का कोई समझौता नहीं किया : Rakesh Tikait

राकेश टिकैत ने लखीमपुर खीरी मामले को लेकर कहा कि उन्होंने बीजेपी से कोई समझौता नहीं किया है बल्कि आग लगने से बचा लिया. क्योंकि घर के सामने मृत शरीर पांच दिनों तक रखकर समझौता नहीं किया जा सकता है. अंतिम संस्कार तक सारी बातें मानी गईं. मृतकों के परिवारों को मुआवजा दिया गया, सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया. वहीं गृहराज्य मंत्री के इस्तीफे की मांग करते हुए किसान नेता ने कहा कि अजय मिश्रा टेनी के मंत्री रहते हुए उनके बेटे आशीष मिश्रा पर लगे आरोप की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती है. इसलिए गृह राज्य मंत्री को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए. दरअसल लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में जिस तरह किसानों का आंदोलन हिंसक हुआ और किसानों की मौत के बाद किसानों की नाराजगी अपने चरम पर पहुंची उससे सरकार के हाथ पांव फूल गए. रातोरात जिस तरीके से प्रियंका गांधी और दूसरे नेताओं ने लखीमपुर पहुंचने की ठानी प्रदेश सरकार के लिए हालात को संभालना और भी भारी हो रहा था. ऐसे में राकेश टिकैत ने योगी सरकार के साथ समझौता कराने में अहम भूमिका निभाई। 

Live TV

-->

Loading ...