Corona s graph

किन्नौर जिला में लुढ़का कोरोना का ग्राफ, रिकवरी रेट 94 प्रतिशत

रिकांगपिओ : जनजातीय जिला किन्नौर में कोरोना का ग्राफ लुढ़कने लगा है। कोरोना की रफ्तार थमने से लोगों ने राहत की सांस ली है। जिला में कोरोना का रिकवरी रेट 94 प्रतिशत पहुंच गया है। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण पर नकेल कसने को लेकर बनाई गई रणनीति कारगर साबित होने लगी है। जिला में 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना की एक-एक खुराक मिल चुकी है। कुल आबादी में से 60 प्रतिशत की कोरोना सैंपलिंग की जा चुकी है। जनजातीय जिले में 2856 लोग स्वस्थ हुए हैं। इससे जिले में कोरोना से स्वस्थ होने वालों की दर 94 प्रतिशत पहुंच गई है। जिले में विभिन्न चिकित्सा संस्थानों, समर्पित कोविड केयर केन्द्रों, चिकित्सकों, पैरा मैडीकल स्टाफ, आशा वर्कर, आंगनबाड़ी कार्यकताओं व अन्य कर्मचारियों के प्रयासों से यह संभव हो सका है। 

प्रदेश सहित जिले में जैसे ही कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने आरंभ हुए जिला प्रशासन द्वारा इससे निपटने के लिए अनेक पग उठाए गए, जहां लोगों को कोरोना महामारी से बचने के लिए सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों व प्रोटोकॉल के बारे में जागरूक किया गया वहीं समर्पित कोविड केयर केन्द्र व समर्पित कोविड केयर हैल्थ केन्द्र को ओर सुदृढ़ किया गया, ताकि कोरोना के कारण दाखिल होने वाले मरीजों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हो सकें। प्रशासन द्वारा अधिक से अधिक संख्या में कोविड सैम्पल लेने का भी निर्णय लिया गया, ताकि शुरूआत में ही कोरोना मरीजों का पता चल सके। जिले में अब तक कुल 49566 कोरोना सैम्पल लिए जा चुकें हैं जो कुल जनसंख्या का 60 प्रतिशत से अधिक है। इसी प्रकार जिले में वैक्सीनेशन के कार्य में भी तेजी लाई गई। 

जिले में अभी तक 36808 कोविड के टीके लगाए गए हैं, जिनमें 29010 व्यक्तियों को प्रथम डोज तथा 8767 व्यक्तियों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। जिले में 60 वर्ष के अधिक आयु के शत प्रतिशत लोगों को प्रथम डोज तथा 55 प्रतिशत लोगों को दोनों डोज लगाई जा चुकी है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सोनम नेगी का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा उठाए गए कदमों के चलते जिले में आज कोविड के सक्रिय मामलों की संख्या 203 है तथा केवल 9 रोगी ही अस्पताल में उपचार करवा रहें हैं बाकि सभी रोगी अपने घरों पर ही होम आईसोलेशन में है। 

जिला प्रशासन द्वारा होम आईसोलेशन पर रह रहें लोगों की सुविधा के लिए एक दस सदस्य परामर्श दल का भी गठन किया गया जिसमें चिकित्सकों के साथ मनोविशेषज्ञ शामिल हैं जो होम आईसोलेशन पर रहे लोगों से बातचीत कर उनके मनोबल को बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रहें हैं ताकि साथ ही होम आईसोलशन पर रह रहे व्यक्ति अपने को अकेला महसूस न करें। उन्होंने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण से स्वस्थ होने की दर 94 प्रतिशत पहुंच चुकी है। जिले में अब तक कुल 30095 मामले पॉजिटिव आए हैं जिनमें से 2856 पूर्ण रूप से स्वस्थ हो चुकें हैं। 

Live TV

-->

Loading ...