RBI ATM

आरबीआई के एटीएम में कैश नहीं होने पर जुर्माने वाले नियम से कंपनियां नाराज, कहा- हम क्यों भरे पेनाल्टी

दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक ने ग्राहकों की सुविधा का ध्यान रखते हुए बैंकों को सख्त निर्देश दिया था कि एटीएम में नगदी ना होने पर उन्हें भारी जुर्माना चुकाना पड़ सकता है । आरबीआई के अनुसार अगर नकदी की कमी 1 महीने में 10 घंटे से ज्यादा रहती है तो उस एटीएम से संबंधित बैंक को 10000 हजार रुपए तक का जुर्माना चुकाना पड़ सकता है।

आपको बता दें कि आरबीआई का यह नया नियम 1अक्टूबर 2021 से लागू होगा । केंद्रीय बैंक द्वारा जुर्माना लगाए जाने के कदम पर मिलीजुली प्रतिक्रिया मिली है । आरबीआई की एटीएम में कैश वाले नियम पर एटीएम कंपनियों ने पल्ला झाड़ लिया है । एटीएम ऑपरेटरों और कैश इन ट्रांजिट कंपनियां यह कहते हुए हाथ उठा रही है कि वह जुर्माना नहीं भरेंगे।

वहीं आरबीआई ने व्हाइट लेबल एटीएम के मामले में जुर्माना उस बैंक पर लगाया जाएगा जो संबंधित एटीएम में नकदी को पूरा करता है  । व्हाइट लेबल एटीएम का परिचालन नॉन बैंकिंग इकाइयां करती हैं । बैंक व्हाइट लेबल एटीएम परिचालक से जुर्माना राशि वसूल सकता है । देशभर में विभिन्न बैंकों के जून 2021 के अंत तक 213766 एटीएम थे  ।

आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक देश के सबसे बड़े सरकारी भारतीय स्टेट बैंक  के देश भर में सबसे ज्यादा एटीएम हैं । देश भर में एसबीआई के एटीएम की संख्या 63900 हैं । वहीं, आईसीआईसीआई  बैंक के 16800, एक्सिस बैंक के 16800, एचडीएफसी बैंक के 15000, पीएनबी के 13700, कैनरा बैंक के 13100, यूनियन बैंक के 11800, बैंक ऑफ बड़ौदा के 11600, बैंक ऑफ इंडिया के 5400 और इंडियन बैंक के 5200 एटीएम हैं ।